दवा परीक्षणों में हुई है 400 से अधिक मौतें

Image caption भारत में दवा परीक्षणों की दुनिया अंधकारमय है और इस बारे में लोगों को कम ही जानकारी मिल पाती है.

भारत सरकार के ताज़ा आकड़ों के अनुसार वर्ष 2011 में दवा के लिए किए जा रहे परीक्षणों में 438 लोगों की मौत हुई है जिसमें पचास प्रतिशत से अधिक मौतें विदेशी फॉर्म्यास्यूटिकल कंपनियों के परीक्षणों में हुई हैं.

सरकार ने जो आकड़े जारी किए हैं उसके अनुसार 438 लोगों में से 45 प्रतिशत लोगों की मौत स्थानीय फॉर्मा कंपनियों यानी क्लीनिकल शोध संगठन के परीक्षणों में हुई है.

सरकार का कहना है कि इन परीक्षणों को अनुमति देने की प्रक्रिया को और मज़बूत करने के लिए ठोस उपाय किए जा रहे हैं.

भारत में दवा संबंधी परीक्षणों के लिए सरकारी कमिटियों से अनुमति लेनी पड़ती है लेकिन इसके बारे में बहुत अधिक स्पष्टता अभी भी नहीं हैं.

उधर ब्रिटेन में इस बात को लेकर आवाज़ें उठ रही हैं कि क्या विकासशील देशों में दवा को लेकर किए जा रहे परीक्षणों में दवा कंपनियां ठोस कदमों का पालन कर रही हैं या नहीं.

Image caption कई लोगों पर दवाओं के ऐसे परीक्षण हुए जिन्हें परीक्षणों के बारे में कुछ पता ही नहीं होता है.

लंदन में जारी मेडिसिन इंडेक्स के अनुसार कई कंपनियों जो अपने दवा के परीक्षणों का काम ठेकेदारों को देती हैं वो इस बारे में पर्याप्त आकड़े नहीं देते कि वो विकासशील देशों में कैसे दवाओं का परीक्षण करते हैं.

नीदरलैंड्स से जारी होने वाली इस इंडेक्स रिपोर्ट को बिल मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और ब्रिटेन के अंतरराष्ट्रीय विकास विभाग से धन मिलता है.

पिछले दिनों बीबीसी की एक रिपोर्ट में भी यह बात सामने आई थी कि कई विदेशी कंपनियां भारत में अपनी दवाओं का परीक्षण कर रही हैं जिसमें परीक्षण के लिए गरीबों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

बीबीसी की इस विस्तृत रिपोर्ट के अनुसार कई लोगों को बिना किसी जानकारी के उन दवाओं के परीक्षणों से गुज़रना पड़ा जिनके बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं दी गई थी.

दवा परीक्षणों का मामला जटिल है और विकासशील देशों में कई बार लोग इन परीक्षणों में मारे भी जाते हैं.

भारत सरकार के आकड़े भी अब कह रहे हैं कि 438 लोगों की मौत इन परीक्षणों में हुई है. ज़ाहिर है इस दिशा में कड़े कदम उठाने की ज़रुरत है लेकिन भारत जैसे देश में कड़े कदमों की घोषणा हो तो जाती है लेकिन ये उपाय लागू मुश्किल से ही होते हैं.

संबंधित समाचार