जेसिंथा के पति ने कैमरन को शुक्रिया कहा

Image caption जेसिंथा के पति का कहना है कि पुलिस की जांच के बाद ही वो कुछ बोलेंगे

ब्रिटेन के किंग-एडवर्ड अस्पताल की भारतीय मूल की नर्स जेसिंथा सल्दान्हा के पति बेनेडिक्ट बम्बूज़ा ने सोमवार को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन का शुक्रिया अदा किया है.

बेनेडिक्ट ने कहा कि प्रधानमंत्री कैमरन की तरफ से शोककुल परिवार को काफी सहानुभूति मिली है.

कर्नाटक के उडुपी ज़िले के शिरवा में अपनी पत्नी के अंतिम संस्कार के बाद मीडिया से बात करते हुए बेनेडिक्ट ने उन चिट्ठियों के बारे में चर्चा करने से इनकार कर दिया जो जेसिंथा ने आत्महत्या करने से पहले लिखी थीं.

उन्होंने कहा, "चूँकि स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस मामले की जांच कर रही है, इसलिए इस बारे में कुछ भी कहना मुनासिब नहीं होगा."

मगर बेनेडिक्ट ने इतना ज़रूर कहा कि पुलिस की जांच की रिपोर्ट के बाद ही वो इस मामले में कुछ बोलेंगे.

नम आंखें

सोमवार को शिरवा के 'अवर लेडी ऑफ हेल्थ चर्च' में आयोजित प्रार्थना सभा में मौजूद कई सौ लोगों ने नाम आँखों से जेसिंथा को श्रद्धांजलि दी जिसके बाद उनके शव को पास के ही कब्रिस्तान में दफना दिया गया.

इससे पहले शिरवा में ही बेनेडिक्ट के घर पर भी एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया था जिसमें उनके परिवार के लोग और कुछ करीबी मित्र शामिल हुए.

चर्च में जमा लोगों को काफी देर से जेसिंथा के शव का इंतज़ार था ताकि वो आखरी बार उनको देख पाएं. मगर परिवार के लोगों नें उनके ताबूत को नहीं खोला और प्रार्थना सभा के बाद उनके शव को सीधे कब्रिस्तान ले जाया गया.

प्रार्थना सभा में शिरवा के लोगों के अलावा कुछ राजनेता भी शामिल थे.

Image caption जेसिंथा की अंतिम यात्रा में कई लोग शरीक़ हुए.

इससे पहले इस चर्च में इतनी भीड़ कभी नहीं हुई थी और पुलिस ने भी सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए थे.

चिलचिलाती धूप में जैसे ही जेसिंथा का शव चर्च पहुंचा, वहां पहले से मौजूद बैंड नें शोक की धुन बजानी शुरू कर दी. धीरे धीरे माहौल ग़मगीन होता चला गया.

यूं तो इस तटवर्तीय इलाके में क्रिसमस का जश्न दिसंबर के आते ही शुरू हो जाता है, मगर शिरवा वासियों के लिए इस साल का दिसंबर मायूसी लेकर आया है. जेसिंथा की मौत नें क्रिसमस की खुशियों को ग़म में तब्दील कर दिया है.

उनके परिवार के लोगों का कहना है कि उन्हें इस ग़म से उबरने में काफी वक़्त लग जाएगा.

संबंधित समाचार