गुजरात में फ़ैसले का अंतिम चरण

  • 17 दिसंबर 2012
Image caption गुजरात चुनाव के पहले दौर में भारी मतदान हुआ था.

गुजरात में सोमवार को दूसरे और अंतिम चरण का मतदान हुआ. इस चरण में 182 सीटों में से 95 सीटों पर वोट डाले गए.

पहले चरण में 87 सीटों पर भारी मतदान होने के बाद दूसरे चरण का मतदान मोदी के लिए और अहम हो गया था.

ख़ुद नरेंद्र मोदी और इनके मंत्रिमंडल के 14 मंत्रियों के राजनीतिक भविष्य का फ़ैसला भी इसी चरण में होना है और मोदी जब ख़ुद मतदान के लिए पहुँचे वो वहाँ बड़ी संख्या में लोग उनके इंतज़ार में खड़े थे.

हालांकि कांग्रेस ने इस बार भी अपनी पूरी ताक़त झोंक दी और भाजपा से अलग हुए केशुभाई पटेल ने चुनाव को कई जगह त्रिकोणीय बना दिया लेकिन कहा यही जा रहा है कि सोमवार को हुआ मतदान ही तय करेगा कि मोदी तीसरी बार गुजरात के मुख्यमंत्री होंगे या नहीं?

मतगणना 20 दिसंबर को होगी.

कई बड़े चेहरे

इस दौर में केंद्रीय गुजरात के पांच जिलों की 40 विधानसभा सीटों पर, उत्तरी गुजरात के पांच जिलों की 32 विधानसभा सीटों पर, अहमदाबाद के आसपास की 17 सीटों पर और कच्छ इलाके की छह विधानसभा सीटों पर मतदान हुआ.

इस चरण में कुल एक करोड़ 98 लाख मतदाता थे जिन्होंने कुल 820 उम्मीदवारों के राजनीतिक भविष्य का फैसला किया है.

इस दौर में नरेंद्र मोदी के अलावा जो बड़े नाम शामिल हैं उनमें जयनारायण व्यास, आनंदी पटेल, सौरभ पटेल, रामनलाल वोहरा, प्रफुल्ल पटेल और फकीर वाघेला शामिल हैं.

सोहराबुद्दीन शेख और तुलसी प्रजापति फर्जी मुठभेड़ मामले में आरोपी और पूर्व गृह राज्यमंत्री अमित शाह की किस्मत का फैसला भी सोमवार के मतदान में ही हुआ है.

वहीं कांग्रेस पार्टी की ओर से शंकर सिंह वाघेला, उनके पुत्र महेंद्र वाघेला, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धार्थ पटेल, निलंबित आईएएस संजीव भट्ट की पत्नी श्वेता भट्ट भी चुनावी मैदान में हैं.

गुजरात परिवर्तन पार्टी के नेता केशुभाई पटेल ने अहमदाबाद के एलिस ब्रिज विधानसभा सीट से जागृति पांड्या को मैदान में उतारा है. जागृति, गुजरात के पूर्व गृह राज्य मंत्री हरेन पांड्या की पत्नी हैं जिनकी कुछ साल पहले हत्या हो गई थी.

जहां भाजपा ने इस दौर के लिए सभी 95 सीटों के लिए उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं वहीं कांग्रेस ने 92 सीटों के लिए और गुजरात परिवर्तन पार्टी ने 84 सीटों के लिए उम्मीदवारों को टिकट दिया है.

Image caption दंगों के बाद से गोधरा संवेदनशील जगह बन गया है.

प्रमुख पार्टियों के अलावा गुजरात चुनाव नें 32 पार्टियां और 284 निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं.

गोधरा में तनाव

गोधरा में मौजूद बीबीसी संवाददाता राजेश जोशी के अनुसार दिन के क़रीब 11 बजे मुसलमान युवा सड़क पर उतर आए और नाराज़गी व्यक्त करने लगे.

उनका आरोप है कि किसी पुलिस के सिपाही ने मतदान करने गए एक मुसलमान मतदाता को थप्पड़ मारा और बदसलूकी की.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इसके बाद वहाँ बड़ी संख्या में सुरक्षा बल के जवाब पहुँच गए और स्थिति को काबू में किया.

इसके अलावा बाकी जगह गड़बड़ी की कोई खबर नहीं मिली.

संबंधित समाचार