सामूहिक बलात्कार: संसद में आक्रोश, मृत्युदंड की मांग

 मंगलवार, 18 दिसंबर, 2012 को 17:03 IST तक के समाचार
सुषमा स्वराज

सुषमा स्वराज ने बलात्कारियों को मृत्युदंड देने की मांग की

दिल्ली में रविवार को एक लड़की के साथ हुए सामूहिक बलात्कार की गूँज आज संसद के दोनों सदनों में सुनाई दी. सांसदों ने एक सुर में इस बलात्कार पर आक्रोश जताया और सरकार से बयान की मांग की.

संसद में उठे बवाल के बाद गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा बढ़ाने की योजना को लेकर तैयार की गई रूप-रेखा की जानकारी दी.

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने बलात्कार करने वालों को मौत की सज़ा देने की मांग की.

लोकसभा और राज्यसभा में सांसदों ने कार्यवाही रोककर अपना ग़ुस्सा व्यक्त किया. राज्यसभा में सांसदों ने प्रश्नकाल को रोककर गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से इस मामले पर अपना बयान देने की मांग की.

रविवार की रात दिल्ली में एक चलती बस में 23 वर्षीय लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ. लड़की और उनके मित्र के साथ बेरहमी से मार-पीट भी की गई और फिर उन्हें चलती बस से फेंक दिया गया.

बलात्कार की शिकार लड़की दिल्ली के एक अस्पताल में ज़िंदगी और मौत के बीच जूझ रही है. जबकि उनके मित्र की हालत बेहतर है और वो पुलिस की जाँच में मदद कर रहे हैं. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में अभियुक्त को पकड़ने का दावा किया है.

ज़रूरी क़दम

"गृह सचिव के स्तर एक विशेष कार्यबल बनाया जाएगा जो दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दे को देखेगा. ये दल सांसदो की तरफ से इस मुद्दे पर आए सुझावों को ध्यान में रखकर काम करेगा"

सुशील कुमार शिंदे, गृह मंत्री

सुशील कुमार शिंदे ने राज्यसभा में कहा, "गृह सचिव के स्तर एक विशेष कार्यबल बनाया जाएगा जो दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दे को देखेगा. ये दल सांसदो की तरफ से इस मुद्दे पर आए सुझावों को ध्यान में रखकर काम करेगा."

शिंदे ने संसद को आश्वासन दिलाया कि राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा के लिए सभी ज़रूरी कदम उठाए जाएंगे.

साथ ही उनका कहना था कि अगर कहीं कमी दिखेगी तो इस मामले से संबंधित अधिकारी के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएँगे.

गृह मंत्री महिलाओं की सुरक्षा के लिए दिल्ली पुलिस की ओर उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए कहा कि रात में सभी सड़कों पर पीसीआर वैन तैनात होती है और ज्यादा गश्त लगाई जाएगी.

सुशील कुमार शिंदे ने कहा, "उन विशेष रास्तों या रुट का पता लगाया गया है जिन रास्तों से महिलाए काम से वापस आती हैं और इन रास्तों पर त्वरित मदद वाहन और पीसीआर वैन की संख्या को बढ़ाया गया है जिसके साथ-साथ मोटरसाइकिल पर भी पुलिस वाले गश्त लगाएंगे."

हंगामा

"अब समय आ गया है कि बलात्कार करने वालों को मौत की सज़ा देने का प्रावधान किया जाए. राजधानी में बलात्कार के मामलों को रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है? बलात्कारियों को फाँसी की सज़ा मिलनी चाहिए. हमें बलात्कार रोकने के लिए कड़े क़ानून की आवश्यकता है"

सुषमा स्वराज

लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी के नेता शाहनवाज़ हुसैन ने ये मुद्दा उठाया.

लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने कहा कि दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की घटना डरावनी है. उन्होंने कहा, "सरकार को कड़े क़दम उठाने चाहिए और ये सदन भी यही चाहता है."

बाद में सुषमा स्वराज ने कहा, "अब समय आ गया है कि बलात्कार करने वालों को मौत की सज़ा देने का प्रावधान किया जाए. राजधानी में बलात्कार के मामलों को रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है? बलात्कारियों को फाँसी की सज़ा मिलनी चाहिए. हमें बलात्कार रोकने के लिए कड़े क़ानून की आवश्यकता है."

संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ ने कहा कि इस मामले में कड़े क़दम उठाए जाएँगे.

मांग

सुशील कुमार शिंदे

सांसदों ने गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के बयान की मांग की

कांग्रेस सांसद गिरिजा व्यास ने कहा कि दिल्ली की बसों में कोई सुरक्षा नहीं होती. उन्होंने बलात्कार के मामलों को जल्द से जल्द निपटाने की भी मांग की.

राज्यसभा में सभापति हामिद अंसारी ने पहले फिलीपिंस के तूफ़ान में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि की और इसके ठीक बाद पूरा विपक्ष इस मामले पर खड़ा हो गया.

सांसदों ने दिल्ली की क़ानून व्यवस्था पर गंभीर सवाल उठाए. भाजपा की माया सिंह ने कहा, "इस बलात्कार ने सारी हदें पार कर ली है. इसने देश की राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा और क़ानून व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं."

समाजवादी पार्टी की जया बच्चन ने कहा कि वे अन्य महिला सांसदों के साथ बलात्कार के विरोध में प्रश्न काल के दौरान खड़ी रहेंगी.

राम जेठमलानी ने कहा कि वे गृह मंत्री को ये संदेश देना चाहते हैं कि जब तक दिल्ली पुलिस के मौजूदा कमिश्नर को नहीं हटाया जाता, दिल्ली की क़ानून व्यवस्था नहीं सुधर सकती.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.