पीड़िता को ख़ून के इंफ़ेक्शन से बचाने की कोशिश

बलात्कार पर विरोध
Image caption बलात्कारियों को कड़ी सजा की मांग की जा रही है

दिल्ली में चलती हुई बस में बलात्कार की शिकार हुई लड़की की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है.

अस्पताल में भर्ती कराए जाने के बाद से उसे गहन चिकित्सा कक्ष में रखा गया है. बुधवार को भी उसका ऑपरेशन किया गया ताकि उसके पेट में लगी चोटों के बारे में पता लगाया जा सके. ये ऑपरेशन दो घंटे चला. अभी उसकी हालत स्थिर बताई जाती है.

डॉक्टरों का कहना है, “उसकी पूरी आंतों को काफ़ी नुकसान हुआ है. कुछ आंतें हटाई गई हैं. पेट को साफ किया गया है.” नसों के ज़रिए लड़की को खाना पहुंचाया जा रहा है.

इससे पहले रविवार को बलात्कार के बाद लड़की के पेट का ऑपरेशन किया गया था. उसके पेट से बहुत खून बहा.

'बर्बर' बलात्कार

डॉक्टरों ने कहा, “हम उसे जीवन रक्षा प्रणाली पर रखे हुए हैं और उम्मीद करते है कि उसकी हालत स्थिर होगी और अन्य कोई परेशानी नहीं आएगी.”

सफदरजंग अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर बीडी अथानी ने बताया, “मरीज अभी नींद में है और बेहोशी की दवा के असर से बाहर आ रही है. इसलिए अभी वो बात करने की स्थिति में नहीं है. अगर वो स्थिर रहती है तो कुछ हद तक सामान्य हो सकती है.”

अथानी ने बताया कि रक्त संक्रमण से बचने के लिए डॉक्टरों को उसकी कई क्षतिग्रस्त आंतों को निकालना पड़ा है. लड़की ने बुधवार को ऑपरेशन से पहले अपनी मां और भाई से बात की थी.

फिजियोथेरेपी की पढ़ाई कर रही इस लड़की का रविवार रात को दिल्ली में चार लोगों ने एक चलती बस में 'बर्बरता' से बलात्कार किया.

इन लोगों ने लड़की के एक दोस्त पर भी हमला किया और लड़की का बलात्कार करने के बाद दोनों को बस से बाहर फेंक दिया. पुलिस ने अभी इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया है.

इस बीच बलात्कार पीड़ित के लिए रक्तदान को बहुत से लोग अस्पताल पहुंच रहे हैं.

इससे पहले मंगलवार की सुबह पीड़ित की स्थिति में कुछ सुधार देखा गया था और उसने लिखकर अपनी परेशानी भी बताई थी, लेकिन शाम को उसकी स्थिति में गिरावट आई.

संबंधित समाचार