मोदी और प्रधानमंत्री की दावेदारी

नरेंद्र मोदी
Image caption मोदी की दावेदारी दिल्ली तक?

नरेंद्र मोदी का एक बार फिर गुजरात का मुख्यमंत्री बनना तय है और अब केवल औपचारिकताएं बाक़ी रह गईं हैं.

लेकिन अब सबसे बड़ी बहस ये शुरू हो गई है कि क्या 2014 के लोकसभा चुनाव में वो भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे और अगर वो भाजपा के उम्मीदवार बन भी जाते हैं तो क्या एनडीए को वो स्वीकार होंगे.

देखते हैं कि इसी मुद्दे पर किसने क्या कहा.

नरेंद्र मोदी की मां(ज़ी न्यूज़ पर)

मेरे बेटे को अब प्रधानमंत्री बनना चाहिए.

तरुण विजय, भाजपा प्रवक्ता

नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद के सबसे उपयुक्त उम्मीदवार है.

सलमान ख़ुर्शीद, विदेश मंत्री

हम गुजरात में हार गए हैं लेकिन हिमाचल में जीते हैं. लेकिन ये जीत मोदी के लिए आसान नहीं रही. मुक़ाबला कड़ा था. हम सही दिशा में हैं. एक चुनाव से वो प्रधानमंत्री पद के दावेदार नहीं हो जाते हैं.

एमजी वैद्य, वरिष्ठ आरएसएस विचारक

भाजपा में नरेंद्र मोदी समेत प्रधानमंत्री पद के कई बड़े उम्मीदवार हैं. लोगों ने उन्हें तीसरा मौका दिया है.

अभिषेक मनु सिंघवी, कांग्रेस प्रवक्ता

हां, गुजरात में मोदी के मुताबिक़ ही हुआ, लेकिन इन परिणामों का ये अर्थ नहीं है कि राष्ट्रीय स्तर पर उन्हें स्वीकार्यता मिल गई है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार

भारत नरेंद्र मोदी को अगले प्रधानमंत्री के रूप में देखेगा.

अली अनवर, सांसद (जेडी-यू)

उनकी जीत से क्या साबित होता है.. और इस पर हमारा क्या रुख रहेगा? जब वे (प्रधानमंत्री पद के) उम्मीदवारों पर हमारे साथ चर्चा करेंगे तो हम अपनी राय देंगे. हमारा देश धर्मनिरपेक्ष है.. एक नेता को अपना अपनी धर्मनिरपेक्ष विश्वसनीयता दिखानी होगी.

रामविलास पासवान, अध्यक्ष एलजेपी

प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी का समर्थन नहीं करूंगा.

शेषाद्रि चारी, भाजपा नेता

ये चुनाव प्रधानमंत्री को तय करने के लिए नहीं था.

संबंधित समाचार