शीला दीक्षित:इतनी हिम्मत नहीं कि उस लड़की को देख सकूँ

 शनिवार, 22 दिसंबर, 2012 को 05:34 IST तक के समाचार

राजधानी दिल्ली में पीड़िता के लिए लोग न्याय की गुहार लगा रहे हैं

दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा है कि उनमें इतनी हिम्मत नही है कि वो अस्पताल जाकर बस में बर्बर सामूहिक बलात्कार की शिकार उस पीड़ित लड़की को देखने जा सकें.

शीला दीक्षित ने एक समाचार चैनल से कहा कि पीड़ित लड़की का सिर्फ सम्मान और इज्ज़त ही नहीं लूटी गई...शारीरिक रूप से वह बर्बाद हो चुकी है. उसके क्लिक करें पूरी तरह ठीक होने की संभावना न के बराबर है. यह सिर्फ बलात्कार नहीं है...एक तरह से हत्या है.

उन्होंने कहा, “मैंने सिर्फ पीड़ित के माता पिता और डॉक्टरों से ही मुलाकात की है और पीड़ित के माता पिता के सामने दर्द बयान भी नही कर सकती. इस घटना ने क्रूरता और असंवेदनशीलता की हद को पार कर दिया है.”

फांसी की सज़ा

मुख्यमंत्री ने कहा,"सजा ऐसी होनी चाहिए कि अपराधियों के मन में डर बैठे, मेरी राय में तो दोषियों को फांसी की सज़ा होनी चाहिए."

"मैंने सिर्फ पीड़ित के माता पिता और डॉक्टरों से ही मुलाकात की है इस घटना ने क्रूरता और असंवेदनशीलता की हद को पार कर दिया है. पीड़ित लड़की का सिर्फ सम्मान और इज्जत ही नहीं लूटी गई...शारीरिक रूप से वह बर्बाद हो चुकी है. उसके पूरी तरह ठीक होने की संभावना न के बराबर है. यह सिर्फ बलात्कार नहीं है...एक तरह से हत्या है. "

शीला दीक्षित

शीला दीक्षित ने यह भी कहा कि उनके हाथ बंधे हुए हैं. क्योंकि कानून व्यवस्था दिल्ली सरकार के आधीन नही है.

शीला दीक्षित ने इस बात से भी काफी नाखुश हैं कि दिल्ली पर रेप कैपिटल का ठप्पा लगा दिया गया है.

राजधानी के रेप कैपिटल करार दिए जाने के सावाल पर शीला दीक्षित का कहना था कि वो नही चाहतीं कि मेरे शहर को ये दर्जा दिया जाए, मेरी भी एक बेटी है बहू है. मैं शहर की हर लड़की के लिए चिंतित हू.

इस बीच, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को आदेश दिया है कि वह उन पुलिसवालों के नाम बताए, जो उस रात वारदात की जगह के नजदीकी चेक पोस्टों पर तैनात थे.

दो दिन पहले ही अदालत ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी और उसे स्टेटस रिपोर्ट पेश करने को कहा था.

लड़की की हालत

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी और मौत से लड़ रही सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई 23 वर्षीय लड़की को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है.

इस लड़की का इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है, ''लड़की की हालत में सुधार हो रहा है लेकिन उसके प्लेटलेट्स गिर रहे हैं. वो बोलने की कोशिश कर रही है लेकिन उसके लिवर में संक्रमण होने की आशंका है.''

इस बीच राजधानी दिल्ली के पुलिस आयुक्त नीरज कुमार और गृह सचिव आरके सिंह ने इस मामले पर हुई ताज़ा कार्रवाई की जानकारी दी.

गृह सचिव ने बताया कि इस मामले पर चार्जशीट जल्द ही होगी और इस मामले पर तुरंत सुनवाई होगी.

पुलिस आयुक्त ने बताया कि पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें से एक की पहचान सार्वजनिक नहीं की जा सकती क्योंकि उसे नाबालिग बताया जा रहा है.

प्रदर्शनों का सिलसिला

इस बीच, सामूहिक बलात्कार के विरोध में राष्ट्रपति भवन के पास महिलाओं ने प्रदर्शन किया है.

अरविंद केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने भी जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया

प्रदर्शनकारियों ने मानव श्रृंखला बना कर राष्ट्रपति भवन के सामने विरोध जताया. उनका आरोप है कि बलात्कार के मामलों पर सरकार गंभीरता नहीं दिखा रही है. जब पुलिस ने उन्हें राष्ट्रपति भवन से हटा दिया तो उन्होंने इंडिया गेट पर जाकर प्रदर्शन किया.

उधर सफदरजंग अस्पताल के बाहर पीड़िता के समर्थन में अस्पताल के सामने प्रदर्शन करने वालों का सिलसिला जारी है. शुक्रवार को भी बहुत सारे लोग वहां पर मौजूद थे और सरकार के ख़िलाफ़ नारे लगा रहे थे.

वहां मौजूद ज़्यादातर लोग दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ़ नारे लगा रहे थे.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.