गैंग रेप:सोनिया जी-कितने दिनों में कार्रवाई होगी?

Image caption रात में भी विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला जारी रहा

चलती बस में एक लड़की के साथ गैंग रेप की घटना के बाद राजधानी दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में लगातार विरोध प्रदर्शन होते रहे.

शनिवार को इंडिया गेट और विजय चौक पर शुरु हुआ प्रदर्शनों का सिलसिला रात में यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी के घर के सामने तक पहुंच गया.

10 जनपथ के बाहर मौजूद प्रदर्शनकारियों की नारेबाजी देखकर सोनिया गांधी लोगों से मिलने बाहर आईं और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की.

सोनिया गांधी ने लगभग 15 मिनट तक प्रदर्शनकारियों से बात की और उन्हें आश्वासन दिया कि हर हाल में सख्त कार्रवाई होगी.

लेकिन सोनिया गाँधी के इस जवाब से प्रदर्शनकारी संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने पूछा कि वह समय बताएं कि कितने दिनों में कार्रवाई होगी.

सोनिया गांधी ने कोई समय सीमा नहीं बताईं और प्रदर्शनकारियों से शांति की अपील कर वापस चली गईं.

इससे पहले, दिन में सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री से बात कर सामूहिक बलात्कार मामले में फौरन कार्रवाई किये जाने और पीड़िता की सुरक्षा के लिए उपयुक्त कदम उठाने की मांग की थी.

गृहमंत्री का बयान

दिन भर चले प्रदशर्नों के बाद रात के करीब आठ बजे गृहमंत्री समेत सरकार के तीन मंत्रियों ने लोगों से अपील की थी कि वो घर लौटें और संयम बरतें.

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने यहां तक कहा कि उनकी भी तीन बेटियां हैं और वो मामले की गंभीरता को समझते हैं. गृहमंत्री ने कहा कि वो व्यक्तिगत तौर पर खुद इस मामले पर नज़र रख रहे हैं.

उन्होंने कहा कि सरकार इस घिनौने अपराध पर आने वाली प्रतिक्रिया की समीक्षा के लिए जांच आयोग कानून 1952 के तहत एक जांच आयोग गठित करेगी. यह आयोग राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा सुधारने के लिए उपाय सुझाएगा.

शिंदे ने कहा कि इस तरह के अपराधों से निटपने के लिए कड़ा कानून बनाने की खातिर आपराधिक कानून में संशोधन के लिए कदम उठाये जाएंगे ताकि यौन उत्पीड़न के इस तरह के दुर्लभ से दुर्लभतम मामले में और अधिक प्रभावी सजा सुनिश्चित हो सके.

बलात्कार के लिए मौत की सज़ा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस पर अभी सीधा कुछ कहना कठिन होगा लेकिन कड़ी सज़ा के प्रावधान पर बातचीत सभी पक्षों से चल रही है.

प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज

शनिवार की सुबह बिना किसी योजना के बड़ी संख्या में युवक राजपथ पर पहुंचे और लोगों ने फिर नार्थ ब्लॉक की तरफ कूच कर दिया.

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले भी छोड़े हैं.

प्रदर्शनकारियों में बड़ी संख्या में लड़कियां भी थीं. प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए पहले पानी की तेज़ बौछारें की गईं जिसके बाद हल्का लाठीचार्ज़ भी किया गया.

दोपहर होते होते प्रदर्शनकारियों की संख्या बढ़ने लगी और वो इंडिया गेट की तरफ जाने लगे. देर शाम तक प्रदर्शन का ये सिलसिला जारी रहा और ये सोनिया गाँधी के घर तर पहुंच गया.