ठीक है के चक्कर में पांच कर्मचारी निलंबित

Image caption प्रधानमंत्री का संदेश रिकॉर्ड करने समय पर नहीं पहुंच सकी दूरदर्शन की टीम.

दिल्ली में हुए गैंग रेप मामले पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के संदेश को रिकॉर्ड करने के लिए दूरदर्शन के कर्मचारी समय पर नहीं पहुंचे जिसके बाद मामले की गंभीरता को देखते हुए मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं और पांच कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है.

लेकिन बात इतनी सी नहीं है..

हुआ यूं कि दूरदर्शन वाले आए नहीं तो एएनआई वालों से रिकार्डिंग कराई गई और उस रिकार्डिंग के संपादन में छूट गए प्रधानमंत्री के दो शब्द...ठीक है...और फिर सोशल मीडिया में इस ठीक है की भद कर दी गई.

ज़ाहिर था गाज गिरी जो अपना काम करने लेट से पहुंचे जिसकी वजह से ये सब शायद हुआ.

घटनाक्रम

प्रधानमंत्री के संदेश को रिकॉर्ड करने के लिए दूरदर्शन की टीम को सोमवार को सुबह साढ़े नौ बजे पहुंचना था. लेकिन दूरदर्शन की कैमरा टीम नौ बजकर चालीस मिनट पर प्रधानमंत्री आवास पहुंची. जबकि इंजीनियरिंग टीम के कर्मचारी सुबह दस बजे के बाद ही पहुंच पाए.

इसके चलते ही प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वीडियो समाचार एजेंसी एएनआई पर अपना संदेश रिकॉर्ड कराया. एएनआई की टीम भी वहां दूरदर्शन के साथ प्रधानमंत्री का संदेश रिकॉर्ड करने के लिए पहुंची थी.

एएनआई की इस रिकॉर्डिंग को बिना संपादन के सभी न्यूज़ चैनलों पर दिखाया गया जिसमें प्रधानमंत्री रिकॉर्डिंग के बाद ‘ठीक है’ कहते सुनाई पड़ते हैं. इसको लेकर सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री की काफी आलोचना भी हुई. हालांकि बाद में इस रिकॉर्डिंग का संपादन करके उसे दुरुस्त कर लिया गया.

दूरदर्शन के सूत्रों के मुताबिक पांच कर्मचारियों की निलंबन का इस चूक से कोई लेना देना नहीं है.

बताया जा रहा है दो कैमरामैन और तीन इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारियों को निलंबित किया गया है.

हालांकि इन कर्मचारियों का कहना है कि प्रधानमंत्री निवास 7 रेसकोर्स, रोड पर पहुंचने वाली सभी सड़कों पर लगे जाम के चलते ही वे समय पर नहीं पहुंच पाए थे.

सोमवार के इंडिया गेट इलाके में आम लोगों के धरना प्रदर्शन और इस प्रदर्शन से निपटने के लिए पुलिस के किए इंतज़ामों के चलते शहर में ट्रैफिक का बुरा हाल था. इसके अलावा एक वजह ये भी बतायी जा रही है कि बहुत कम समय के नोटिस पर इन कर्मचारियों को रिकॉर्डिंग के लिए पहुंचना था. जो संभव नहीं हो पाया.

संबंधित समाचार