बलात्कार मामले में नए साल की पूर्व संध्या पर फिर जुटेंगे छात्र

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की शिकार युवती के अंतिम संस्कार के बाद भी उसके लिए इंसाफ की मांग को लेकर राजधानी दिल्ली और देश के अन्य इलाकों में विरोध प्रदर्शन जारी हैं.

बलात्कार पीड़ित का अंतिम संस्कार

दिल्ली में छात्रों ने कहा है कि वे नए साल से पहले आज रात फिर इकट्ठा होंगे और यौन अपराधों से जुड़े लोगों को कड़ी सजा देने की माँग करेंगे.

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव की मून ने भी इस मामले पर दुख जताते हुए कहा है कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. उन्होंने भारत सरकार से आग्रह किया है कि वो इस तरह के अपराध को रोकने के लिए क़दम उठाए और और इस मामले के दोषियों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिले.

महिलाओं के साथ ऐसा सलूक क्यों

हजारों लोगों रविवार को भी कड़ाके की सर्दी में दिल्ली के जंतर मंतर पर जमा हुए और सामूहिक बलात्कार की पीड़ित लड़की के लिए इंसाफ मांगा. ये शांतिपूर्ण प्रदर्शन रविवार को उस वक्त हिंसक भी हो गया था जब भारतीय जनता पार्टी की छात्र ईकाई एबीवीपी का झंडा लिए कुछ प्रदर्शनकारियों ने कनॉट प्लेस की तरफ मार्च करने की कोशिश की. पुलिस से उनकी झड़पें हुईं.

संयुक्त राष्ट्र तक पहुँची बात

प्रदर्शनकारियों का गुस्सा इस बात को लेकर भी है कि इस कदर विरोध और सरकारी वादों के बावजूद देश में बलात्कार और छेड़छाड़ की घटनाएं नहीं रुक रही हैं. दिल्ली में ही शनिवार को जहां बस में एक किशोर लड़की के साथ छेड़छाड़ की गई, वहीं पश्चिम बंगाल के बारासात में एक 45 वर्षीय महिला की कथित सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई.

राजधानी दिल्ली में यातायात और मार्गों पर कई तरह की बंदिशों के बावजूद लोग प्रदर्शन स्थलों पर उमड़ रहे हैं. लोगों के उग्र प्रदर्शनों ने सरकार की नींद भी उड़ा दी है. राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा कि महिलाओं के लिए सुरक्षित माहौल तैयार करना ही होगा. उनका कहना था, "सरकार और अधिकारियों समेत समाज में हर किसी की जिम्मेदारी बनती हैं कि ऐसा परिवेश तैयार किया जाए जहां हमारी मां, बहन बेटियों की गरिमा, सम्मान और सुरक्षा सुनिश्चित हो. यही नववर्ष के लिए हमारी बचनबद्धता है, और वचनबद्धता होनी चाहिए." इससे पहले रविवार को बलात्कार का शिकार हुई महिला का अंतिम संस्कार कर दिया गया है. उसके शव को रविवार सुबह सिंगापुर से दिल्ली लाया गया था.

इस बीच इस मामले की गूंज संयुक्त राष्ट्र तक जा पहुंची है और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने इसे 'क्रूरतम अपराध' क़रार दिया है और इसकी कड़े शब्दों में निंदा की है.

भारत में सत्ता पक्ष हो या विपक्ष सब यही चाहते हैं कि ऐसे घटनाओं से सबक लिया जाए.

दिल्ली पुलिस ने बलात्कार के मामले में गिरफ़्तार किए गए छह लोगों के ख़िलाफ़ हमला और हत्या का मामला दर्ज किया है. पुलिस के प्रवक्ता राजन भगत ने कहा है कि इस मामले में अभियुक्तों को मौत की सज़ा भी हो सकती है.

संबंधित समाचार