थरूर चाहते हैं 'लड़की का नाम सार्वजनिक हो'

 मंगलवार, 1 जनवरी, 2013 को 20:06 IST तक के समाचार
शशि थरूर

शशि थरूर सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर काफ़ी सक्रिय रूप से प्रतिक्रिया देते हैं

मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री शशि थरूर ने दिल्ली में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई महिला के नाम को लेकर एक विवादास्पद ट्वीट कर दिया है.

सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर के ज़रिए अक़सर अपनी राय रखने वाले थरूर ने इस बार कहा है कि बलात्कार पीड़िता का नाम छिपाए रखने से आख़िर क्या हासिल हो रहा है?

सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर के ज़रिए अक़सर अपनी राय रखने वाले थरूर ने इस बार कहा है कि बलात्कार पीड़िता का नाम छिपाए रखने से आख़िर क्या हासिल हो रहा है?

बलात्कार पीड़िता का नाम या उसकी पहचान अभी तक छिपाकर रखी गई है और मीडिया भी इस बारे में संयम बरत रहा है कि उसकी पहचान किसी तरह से ज़ाहिर नहीं होनी चाहिए.

ऐसे में थरूर का ये बयान इस मसले की संवेदनशीलता को देखते हुए कुछ लोगों को नागवार गुज़रेगा.

विवादास्पद?

"इसके अलावा बलात्कार के क़ानून में जो बदलाव होने हैं उसके बाद नए क़ानून का नाम उसी के नाम पर रखा जाना चाहिए"

शशि थरूर, मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री

थरूर ने पहले ट्वीट में कहा, "सोचता हूँ कि आख़िर दिल्ली बलात्कार पीड़ित की पहचान छिपाए रखकर क्या हासिल होगा? क्यों न उनका नाम बताकर उनका एक वास्तविक व्यक्ति की तरह सम्मान किया जाए, जिसकी अपनी पहचान है."

वैसे ख़ुद थरूर को भी शायद इस बात का अंदाज़ा था कि बात यहीं छोड़ देने से विवाद कुछ ज़्यादा बढ़ सकता है इसलिए उन्होंने अगले ट्वीट में परिवार का ज़िक्र किया.

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, "अगर उनके माता-पिता को आपत्ति नहीं करते हैं तो उस लड़की का सम्मान किया जाना चाहिए. इसके अलावा बलात्कार के क़ानून में जो बदलाव होने हैं उसके बाद नए क़ानून का नाम उसी के नाम पर रखा जाना चाहिए."

थरूर का कहना है कि लड़की एक इंसान थीं कोई सांकेतिक चिह्न भर नहीं.

वैसे पूर्व आईपीएस और अब सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे के साथ जुड़ी किरण बेदी ने भी शशि थरूर की इस माँग का समर्थन किया है. उन्होंने भी ट्विटर पर ही थरूर का समर्थन किया.

किरण बेदी और अनुपम खेर भी

"मैं उसकी पहचान के बारे में जानना चाहता हूँ. वह कोई काल्पनिक पात्र नहीं है. देश को उसकी असलियत के बारे में जानने का पूरा हक़ है."

अनुपम खेर, फ़िल्म अभिनेता

बेदी ने ट्वीट किया, "मैं बलात्कार पर नए क़ानून का नाम उस लड़की के नाम पर रखने की शशि थरूर की माँग का समर्थन करती हूँ. अमरीका में ब्रैडी, मेगन, कार्ली या जेसिका क़ानून आदि ऐसे कई उदाहरण हैं."

इससे पहले फ़िल्म अभिनेता अनुपम खेर भी उस लड़की का नाम ज़ाहिर करने की माँग कर चुके हैं. खेर ने भी यह बात रखने के लिए ट्विटर का ही सहारा लिया था.

उन्होंने कहा था, "मैं उसकी पहचान के बारे में जानना चाहता हूँ. वह कोई काल्पनिक पात्र नहीं है. देश को उसकी असलियत के बारे में जानने का पूरा हक़ है. अगर कई वर्षों बाद इस देश में महिलाएँ सुरक्षित होती हैं तो मैं चाहता हूँ कि दुनिया को पता चले कि इसकी शुरुआत किसने की."

एक तबका ऐसा है जो उस बलात्कार पीड़ित लड़की का नाम ज़ाहिर करके उन्हें सम्मानित किए जाने के पक्ष में है मगर बड़ा वर्ग ऐसा है जो उनके परिजनों का ध्यान रखते हुए उनकी पहचान को गोपनीय रखने में ही विश्वास करता है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.