दिल्ली गैंगरेप: पाँच अभियुक्तों के खिलाफ वारंट जारी

 शनिवार, 5 जनवरी, 2013 को 18:25 IST तक के समाचार

गैंगरेप मामले की सुनवाई दिल्ली की साकेत अदालत में की जा रही है.

दिल्ली में 16 दिसंबर को हुए सामूहिक बलात्कार मामले में दिल्ली की एक कोर्ट ने पाँच अभियुक्तों के खिलाफ वारंट जारी किए हैं.

शहर की पुलिस ने गुरुवार को मेट्रोपोलिटन न्यायाधीश के समक्ष 33 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया था.

अभियुक्तों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता के तहत हत्या, सामूहिक बलात्कार, हत्या की कोशिश, अपहरण, अप्राकृतिक अपराध, डकैती, डकैती के दौरान हिंसा, सबूत मिटाने और आपराधिक षडयंत्र जैसी धाराएं लगाई गई हैं.

इस मामले का छठा अभियुक्त जो कि एक किशोर है, उसका मुकदमा जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के समक्ष पेश किया जाएगा.

16 दिसंबर की रात 23 साल की एक पैरामेडिक छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद उन्हें बर्बरता पूर्वक प्रताड़ित किया गया था.

इस घटना में बुरी तरह ज़ख्मी हुई छात्रा की 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में मौत हो गई थी.

अभियोग

बलात्कार के पांचों अभियुक्तों के खिलाफ़ हत्या, सामूहिक बलात्कार, हत्या की कोशिश, अपहरण, अप्राकृतिक अपराध, डकैती, डकैती के दौरान हिंसा, सबूत मिटाने, आपराधिक षडयंत्र जैसी धाराएं लगाई गई हैं.

दिल्ली पुलिस ने पीड़ित युवती की पहचान की रक्षा के लिए एफआईआर की विषय सामग्री और अन्य दस्तावेज़ों को गुप्त रखने के निर्देश की मांग की है.

पुलिस ने कहा है कि वो अदालत के सामने चार्जशीट की इलेक्ट्रॉनिक कॉपी भी पेश करेगी.

पुलिस ने इस मामले की आम लोगों की पहुंच से दूर कैमरे के सामने सुनवाई करने की मांग की है.

दिल्ली पुलिस ने साकेत कोर्ट में चार्जशीट शुक्रवार की शाम साढ़े पांच बजे दाखिल किया था जो कि अदालत के काम करने के सामान्य समय से आधे घंटे की देरी से था.

उस समय अदालत में मौजूद कुछ वकीलों ने चिल्ला कर मांग की कि अभियुक्तों को आम जनता के हाथों में सौंप दिया जाना चाहिए.

दिल्ली लीगल सर्विसेज़ अथॉरिटी की एक महिला वकील ने कहा है कि अभियुक्तों को अपने बचाव के लिए क़ानूनी सहयोग मुहैय्या कराया जाएगा.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.