आश्रम में ग्यारह लड़कियों का यौन शोषण

Image caption कांकेर ज़िले के इस आश्रम में 47 छात्राएं रहती हैं

छत्तीसगढ़ के कांकेर ज़िले के एक सरकारी कन्या आश्रम में ग्यारह नाबालिग आदिवासी लड़कियों के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया है.

इस मामले में पुलिस ने स्कूल के एक अध्यापक और चौकीदार को गिरफ्तार कर लिया है, जिन पर आरोप है कि उन्होंने इन बच्चियों के साथ यौन दुराचार किया.

इस आश्रम में 47 लड़कियां रहती थीं, जिनमें से सात से बारह साल की 11 लड़कियों के साथ स्कूल के अध्यापक और चौकीदार ने लगातार दो साल तक यौन दुष्कर्म किया.

कांकेर से नई दुनिया अखबार के पत्रकार भरत यादव ने बीबीसी को बताया कि गांव वालों ने अध्यापक के खिलाफ शिकायत भी दर्ज की, लेकिन स्कूल प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की.

घटना की पुष्टि होने के बाद स्कूल प्रशासन के तीन कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है.

साथ ही रायपुर से तीन महिला आईपीएस अफसर इस मामले की जांच करने कांकेर पहुंच गई हैं.

हिम्मत

Image caption आरोपी अध्यापक और चौकीदार आश्रम में ही रात बिताते थे

स्थानीय पत्रकार भरत यादव ने बीबीसी को बताया कि दिल्ली में हाल ही में हुई बलात्कार की घटना के बाद हुए विरोध प्रदर्शनों ने गांव की लड़कियों को हिम्मत दी कि वे अपने साथ हो रहे दुष्कर्म के बारे में प्रशासन को बताएं.

शुक्रवार को पीड़ित लड़कियों ने कांकेर के ज़िला कलेक्टर से मुलाकात की औऱ उनसे इस मामले की शिकायत की.

शिकायत मिलने के बाद इस मामले की जांच के लिए कलेक्टर ने महिलाओं की एक टीम बनाई जिन्होंने इस घटना की पुष्टि की.

गांव वालों के मुताबिक स्कूल के अध्यापक मनु राम गोटी और चौकीदार दीनानाथ रात को शराब के नशे में हॉस्टल में छात्राओं का यौन शोषण करते थे.

गांव वालों का ये भी आरोप है कि आश्रम की अधीक्षिका भभीता मारदम रात के समय आश्रम से गायब रहती थीं और मनु राम व दीनानाथ उसी आश्रम में रात बिताते थे.

संबंधित समाचार