धुले दंगे में चार लोगों की मौत

फाइल फोटो
Image caption मुंबई में गत वर्ष हुई हिंसा का एक दृश्य (फ़ाइल फोटो)

महाराष्ट्र के धुले नगर में रविवार के सांप्रदायिक दंगों के बाद सोमवार को भी कर्फ्यू जारी है और पुलिस अधिकारियों ने स्थिति शान्ति पूर्ण और नियंत्रण में बताई है.

कल एक मामूली झगडे के बाद फूट पड़ने वाले इस दंगे में मरने वालों की संख्या चार हो गई है जब की 175 लोग घायल हो गए हैं. इन में 11 पुलिस अधिकारी और 102 पुलिसकर्मी शामिल हैं जबकि बाक़ी आम नागरिक हैं.

पुलिस का कहना है की गड़बड़ उस समय शुरू हुई जबकि एक होटल का बिल देने से चार ग्राहकों ने इनकार कर दिया लेकिन कुछ स्थानीय लोगों का कहना है की होटल में झगडा भारत पाकिस्तान के बीच कल हुए मैच को लेकर हुआ था.

गड़बड़ आजाद नगर पुलिस स्टेशन के अंतर्गत मछली बाज़ार से शुरू हुई. पहले पोलिस ने लाठी चार्ज करके और पानी की बौछार मार कर भीड़ को भगाने की कोशिश की.

लेकिन जब हिंसा बढ़ गई और भीड़ ने दुकानों पर हमले करने और आगज़नी का सिलसिला जारी रखा तो पुलिस को गोली चलानी पड़ी.

बाद में जिला सुपरिन्टेन्डेन्ट पुलिस प्रदीप देशपांडे ने अज़द्नगर पुलिस स्टेशन के इलाके में कर्फ्यू लगाने का फैसला किया.

पुलिस अधिकारियों ने बताया की सोमवार को स्थिति पूरी तरह शान्ति पूर्ण रही और हिंसा की कोई ताज़ा घटना नहीं हुई.

धुलिया में इससे पहले 2008 में भी बड़े पैमाने पर दंगे हो चुके हैं.

संबंधित समाचार