'बड़ों के साथ बलात्कार समझ में आता है लेकिन.....

 गुरुवार, 10 जनवरी, 2013 को 18:32 IST तक के समाचार

महिलाओं के खिलाफ अपराधों को लेकर भारत में जगह जगह प्रदर्शन हो रहे हैं

छत्तीसगढ़ से भारतीय जनता पार्टी के सांसद रमेश बैस का कहना है कि बड़ी लड़कियों या औरतों के साथ बलात्कार समझ में आता है लेकिन अगर कोई इस तरह की हरकत नाबालिग के साथ करे तो उसे फांसी पर चढ़ा देना चाहिए.

उनका कहना था, ''बराबरी या बड़े लोगों के साथ बलात्कार समझ में आता है लेकिन नाबालिग बच्चियों के साथ ये करना जघन्य अपराध है. इनको फांसी पर लटका देना चाहिए.''

बैस ने राज्य के कांकेर जिले में सरकारी रिहायशी स्कूल में नाबालिगों के साथ हुए बलात्कार मामलों के संदर्भ में पूछे गए पत्रकारों के सवाल पर जवाब देते हुए ये बात कही.

बैस के इस बयान की आलोचना करते हुए राज्य में मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने कहा है किसी पर भी किया गया दुर्व्यवहार चाहे वो बच्ची हो या बड़ी महिला एक जघन्य अपराध है.

कांग्रेस प्रवक्ता शैलेश नीतिन त्रिवेदी ने कहा, '' किसी के साथ भी किया गया दुर्व्यवहार जघन्य अपराध है. बैस का ये बयान आपत्तिजनक है और हम इसकी निंदा करते हैं.''

घटना

बैस का कहना था कि कांकेर में जिस तरह की घटना सामने आई है वैसी घटनाएं कई जगहों पर होती हैं लेकिन उनकी रिपोर्टिंग नहीं होती.

बैस का कहना था, '' इस मामले में लिप्त कर्मचारियों को नौकरी से निकालने से पीड़ितों को इज्जत वापिस नहीं मिल जाएगी. इस मामले में अभियुक्त को कड़ी सज़ा दिए जाने की जरुरत हैं.''

उन्होंने कहा कि दिल्ली में हुए सामूहित बलात्कार के मामले ने सभी को ऐसे अपराध को लेकर सोचने को मजबूर किया है. छत्तीसगढ़ में हुई ये घटना शर्मनाक है

सासंद ने इस मामले में वरिष्ठ अधिकारियों के लिप्त होने का भी संदेह जताते हुए कहा कि पिछले कई महीने से इन लड़कियों का यौन दुर्व्यवहार होता रहा और संबंधित अधिकारी इससे बेखबर रहे.

रविवार को कांकेर ज़िले के जलियामारी गांव में कबाइली लड़कियों के लिए बने सरकारी रिहायशी स्कूल में नाबालिग लड़कियों के साथ यौन दुर्व्यवहार का मामला सामने आया था.

इस मामले में अब तक छह लोग जिसमें दो शिक्षक शामिल है, को गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस के अनुसार मेडिकल जांच से इस बात की पुष्टि होती है कि हॉस्टल में रहने वाली 40 लड़कियों में से नौ नाबालिग के साथ बलात्कार किया गया है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.