क्या ममता का कार्टून शेयर करना पड़ेगा भारी?

 शुक्रवार, 18 जनवरी, 2013 को 20:57 IST तक के समाचार
ममता बनर्जी

ममता बनर्जी पर अपनी आलोचना बर्दाश्त न करने के आरोप लगते हैं

कोलकाता में फेसबुक पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के एक कार्टून को शेयर करने के लिए एक कॉलेज छात्र के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज हुई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार बिधान नगर (उत्तर) पुलिस थाने के अधिकारी शांतनु कार ने बताया, “तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद ने मुंख्यमंत्री से जुड़े एक कार्टून को आगे बढ़ाने के लिए राम नारायण चौधुरी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. हम मामले की जांच कर रहे हैं.”

चौधुरी साल्ट लेक इलाके के एक कॉलेज में द्वितीय वर्ष के छात्र हैं और सीपीएम पार्टी की छात्र शाखा एसएफआई के सदस्य हैं.

उनका कहना है कि उस कार्टून में मुख्यमंत्री के औद्योगिक वृद्धि के एजेंडे और माओवादियों से संबंध के आरोपों में एक किसान की गिरफ्तारी की आलोचना की गई है.

'मत भूलिए, लोकतंत्र है'

"इसमें कुछ भी ऐसा नहीं है. ये एक सामान्य कार्टून है. उसी कार्टून में पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में अच्छा प्रदर्शन न करने के लिए भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का भी मजाक उड़ाया गया है."

राम नारायण चौधुरी, छात्र

चौधरी ने बताया, “इसमें कुछ भी ऐसा नहीं है. ये एक सामान्य कार्टून है. उसी कार्टून में पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में अच्छा प्रदर्शन न करने के लिए भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का भी मजाक उड़ाया गया है.”

इस युवक का दावा है कि उन्हें उनकी राजनीतिक पृष्ठभूमि के कारण निशाना बनाया जा रहा है. चौधुरी के अनुसार, “मुझे नहीं पता कि वे (तृणमूल कांग्रेस) क्यों इतने असहिष्णु हैं. उन्हें ये नहीं भूलना चाहिए कि ये लोकतंत्र है.”

पिछले साल भी ममता बनर्जी और तत्कालीन रेल मंत्री मुकुल रॉय से जुड़े कार्टून को आगे बढ़ाने के लिए जाधवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अंबिकेश महापात्र को गिरफ्तार किया गया था.

इस घटना की चौतरफा आलोचना होने के बाद महापात्रा को जमानत पर रिहा कर दिया गया था.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.