'भगवा आंतकवाद' कोई नई बात नहीं:शिंदे

 रविवार, 20 जनवरी, 2013 को 23:17 IST तक के समाचार
सुशील कुमार शिंदे

सुशील कुमार शिंदे के बयान की भाजपा ने कड़ी निंदा की है

भारत के गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे अपने उस बयान पर क़ायम हैं जिसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा और आरएसएस के कैंपों में कथित तौर पर हिंदू आंतकवादियों को प्रशिक्षण दिया जाता है.

गृहमंत्री के इस बयान की भाजपा और आरएसएस, दोंनो ने ही कड़ी आलोचना की है और इस पर आपत्ति जताते हुए उनसे इसे वापस लेने की मांग भी की.

लेकिन अपने बयान पर सफ़ाई देते हुए बाद में गृह मंत्री ने कहा, "ये सब इतनी बार अख़बार में आ गया है. ये कोई नई चीज़ नहीं है जो मैंने आज कही है. ये भगवा आंतकवाद की ही बात मैंने की है, कोई दूसरी बात नहीं कही है."

रविवार को जयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर के दौरान गृहमंत्री ने मुख्य विपक्षी दल भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर आरोप लगाया था कि उनके कैंपों में कथित तौर पर हिंदू आतंकवादियों को प्रशिक्षण दिया जाता है.

बयान

गृहमंत्री ने उनके पास आई एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा, "हमारे पास रिपोर्ट आ गई है. जाँच में भाजपा हो या आरएसएस के ट्रेनिंग कैंप, हिंदू आतंकवाद बढ़ाने का काम देख रहे हैं.”

गृहमंत्री ने कहा कि समझौता एक्सप्रेस रेलगाड़ी का धमाका हो, मक्का मस्जिद ब्लास्ट या फिर मालेगाँव के धमाके, हिंदू चरमपंथियों ने वहाँ जाकर बम धमाके करवाए और फिर ऐसा कहा कि ये धमाके अल्पसंख्यकों ने करवाए हैं.

"ये सब इतनी बार अख़बार में आ गया है. ये कोई नई चीज़ नहीं है जो मैंने आज कही है. ये भगवा आंतकवाद की ही बात मैंने की है, कोई दूसरी बात नहीं कही है."

सुशील कुमार शिंदे, गृहमंत्री

शिंदे ने कहा कि ऐसी कोशिशों से देश को सतर्क रहना चाहिए.

गौरतलब है कि मक्का मस्जिद, समझौता एक्सप्रेस और मालेगाँव धमाकों में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, असीमानंद जैसे हिंदू चरमपंथियों के नाम सामने आए थे और सुरक्षा एजेंसियाँ इन मामलों की जाँच कर रही हैं.

पहले इन धमाकों के लिए मुसलमान चरमपंथियों को जिम्मेदार माना गया था लेकिन जाँच के बाद हिंदू चरमपंथियों के नाम सामने आए.

शिंदे के बयान की भाजपा ने कड़ी निंदा की औऱ गंभीर परिणाम की चेतावनी दी.

आलोचना

साध्वी प्रज्ञा

प्रज्ञा पर धमाकों की साजिश करने का आरोप है

भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा, “गृहमंत्री का बयान गैर-जिम्मेदाराना है. ये आतंकवाद को हिंदू और मुसलमानों के बीच बांटने का प्रयास है.”

अरुण जेटली ने कहा, "देश के गृहमंत्री के लिए बिना किसी सबूत या आधार के इस तरह का ग़ैर-ज़िम्मेदाराना बयान देना बिल्कुल अनुचित है. भाजपा और आरएसएस, ये दोंनो देशभक्त संगठन हैं और आंतकवाद के ख़िलाफ़ हमारा रुख जगज़ाहिर है."

उधर कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने शिंदे के बयान पर सफाई देते हुए कहा कि आतंकवादियों के बीच हिंदू और मुसलमान होने के आधार पर भेद नहीं किया जाता है.

लेकिन वरिष्ठ कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने बयान के लिए शिंदे को मुबारकबाद दी.

शिंदे के बयान पर उनके आलोचक ये सवाल पूछ रहे हैं कि अगर गृहमंत्री के पास ऐसी रिपोर्ट है, तो उन्होंने उस पर क्या कार्रवाई की.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.