कुंभ में आग, दो पंडाल भस्म

 शनिवार, 26 जनवरी, 2013 को 02:23 IST तक के समाचार
गंगा

कुंभ के दो पंडालों मे आग लग गई

इलाहाबाद के महाकुंभ परिसर में उस समय हंगामा हो गया जब अचानक मेले के सेक्टर 11 के दो पंडालो को आग ने अपनी चपेट में ले लिया.

आग की चपेट में आने के कारण पूरा का पूरा पंडाल पल भर में जल के खाक हो गया. इस घटना में कम से कम 19 लोग बुरी तरह झुलस गए.

घायलों को इलाहाबाद के स्वरुप रानी मेडिकल हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है.

इनमें से कुछ की हालत गंभीर बताई जा रही है

आग कल्पवास करने पहुंचे कल्पवासियों के शिविर में लगी थी जिस कारण अग्निशमन विभाग को मौके पर पहुचने में दिक्कत का सामना करना पड़ा.

शुरुवाती जांच में आग लगने का कारण कल्पवासियों के गैस सिलेंडर का लीक होना बताया जा रहा है.

ये आग कुंभ क्षेत्र के सेक्टर 11 के साकेत धाम के महंत कौशल किशोर दास के दो पंडालो में लगी और आग इतनी तेजी से फैली की देखते ही देखते उसने उसने बगल में बने दो और शिविरों को अपनी चपेट में ले लिया.

दोनों ही पंडाल कल्पवासियों के थे जो संगम में 27 जनवरी से शुरू होने जा रहे कल्पवास में शामिल होने के लिए संगम पहुंचे थे.

खाना बनाने की कोशिश

बताया जा रहा है कि संगम पहुंचे कल्पवासी शाम को खाना बनाने के प्रयास में थे,

इसी दौरान थोड़ी सी चूक हुई और एक पंडाल को चूल्हे की छोटी सी आग ने अपनी चपेट में ले लिया.

आग छोटी थी लेकिन कपड़े के टेंट में लगी छोटी सी आग ने पल भर में पूरे पंडाल को अपनी चपेट में ले लिया.

इससे पहले कि आग बुझाई जाती एक पंडाल की आग दूसरे पंडाल तक पहुंची और वह भी जल कर ख़ाक हो गया. आग इतनी बड़ी थी कि उसने श्रद्धालुओं को भी अपनी चपेट में ले लिया.

कुंभ क्षेत्र में लगी इस आग को बुझाने के लिए दम कल की दो गाड़ियों को करीब आधे घंटे का समय लगा.आग और भी बड़ी हो सकती थी क्यों की जिस जगह यह आग लगी वह काफी घना बसाया गया है.

इलाहाबाद के कमिश्नर देवेश चतुर्वेदी का कहना है कि घायलों की पूरी तरह से देख रेख की जा रही है. उनका कहना है कि मेला प्रशासन की तरफ से तत्परता दिखाई गई जिस कारण आग और अधिक नहीं भड़क पाई.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.