कमल हासन की 'विश्वरूपम' पर विवाद ख़त्म

विश्वरूपम पर विवाद ख़त्म
Image caption कमल हासन फ़िल्म से कुछ सीन हटाने को तैयार हो गए है.

अभिनेता कमल हासन की बहुचर्चित और विवादों से घिरी फ़िल्म विश्वरूपम पर मामला सुलझा लिया गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने कमल हासन के हवाले से ख़बर दी है कि मुस्लिम संगठनों से बातचीत के बाद अभिनेता ने कहा,“विश्वरूपम पर विवाद ख़त्म हो गया है. अब और कोई विरोध प्रदर्शन नहीं होंगे.''

शनिवार को कमल हासन और मुस्लिम संगठनों ने चेन्नई में लगभग पांच घंटों तक बातचीत की जिसके बाद दोनों पक्षों में सहमति हो गई.

बाद में पत्रकारों से बात करते हुए कमल हासन ने कहा कि वे कुछ दृश्यों के संपादन के लिए तैयार हैं और मीडिया के मुताबिक़ ऐसे सात दृश्य हटा लिए जाएंगे.

मुस्लिम संगठनों ने अपनी आपत्ति वापस ले ली है. शुक्रवार को ही मुस्लिम संगठनों ने तमिल नाडू के गृह सचिव की मौजूदगी में कमल हासन के बड़े भाई चंद्रा हासन से बातचीत की थी.

उस दौरान उन्होंने कथित तौर पर फ़िल्म ने नौ सीन को हटाने की मांग की थी जिस पर चंद्रा हासन ने अपनी असर्थता जताते हुए कहा था कि इसका फ़ैसला केवल कमल हासन ही कर सकते हैं.

कमल हासन शुक्रवार को अपनी फ़िल्म के हिंदी संस्करण की रिलीज़ के लिए मुंबई में थे इसलिए वो इस बैठक में शामिल नहीं हुए थे.

फ़िल्म पर 'सियासत'

इससे पहले विश्वरूपम पर जारी विवाद के बीच जयललिता ने एक इंटरव्यू में कहा था कि फ़िल्म की रिलीज़ की बात कई दिनों से चल रही थी और अभिनेता कमल हासन के पास मामले को सुलझाने का पूरा समय था.

उन्होंने कहा था कि कमल हासन चाहते तो शुरुआत में ही मुस्लिम संगठनों को फ़िल्म दिखाकर बातचीत के ज़रिए विवाद सुलझाने की कोशिश कर सकते थे लेकिन इसमें देर की गई.

जयललिता ने कहा था कि अगर मुस्लिम संगठन और कमल हासन बातचीत के ज़रिए मामला सुलझाने की कोशिश करते हैं तो राज्य सरकार इसमें सहयोग करेगी.

निजी बदले की भावना से फ़िल्म पर रोक लगाने के आरोपों को ख़ारिज करते हुए मुख्यमंत्री जयललिता ने उसी साक्षात्कार में कहा था,''राज्य में क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए फ़िल्म पर रोक लगाया जाना आवश्यक था".

उन्होंने कहा था, “अभिनेता कमल हासन मेरे प्रतिद्वंदी नहीं है, हमने बदले की भावना से कोई कार्रवाई नहीं की है”.

क्या था मामला

कुछ मुस्लिम संगठनों के विरोध के बाद तमिलनाडु की सरकार ने विश्वरूपम की रिलीज पर रोक लगा दी थी.

इसके बाद कमल हासन ने फ़िल्म पर लगी रोक के खिलाफ मद्रास हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी.

कोर्ट की एकल बेंच ने हासन के पक्ष में फैसला दिया और फ़िल्म की रिलीज़ को हरी झंडी दे दी थी.

लेकिन तमिलनाडु सरकार के अपील में मद्रास हाई कोर्ट की बड़ी बेंच ने एकल जज की पीठ के फैसले को पलटते हुए फ़िल्म की रिलीज पर फिर से रोक लगा दी थी.

डीटीएच रिलीज़

इससे पहले विश्वरूपम के डीटीएच रिलीज पर भी विवाद खड़ा हुआ था जिसके कारण फ़िल्म की रिलीज की तारिख़ 11 जनवरी से खिसक कर 25 जनवरी हो गई थी.

गौरतलब है कि कमल अपनी फ़िल्म को पहले डीटीएच पर रिलीज करना चाहते थे लेकिन तमिलनाडु थिएटर मालिकों के विरोध के बाद तय हुआ था कि थिएटर में रिलीज के एक हफ्ते बाद फ़िल्म डीटीएच पर रिलीज की जाएगी.

संबंधित समाचार