अफ़ज़ल गुरु: कश्मीर में प्रर्दशनों की लहर

  • 11 फरवरी 2013
फ़ाईल चित्र
Image caption जनाक्रोश फ़ैलने के डर से सुरक्षा के इंतज़ाम और कड़े कर दिए गए हैं.

भारत प्रशासित कश्मीर में अफ़ज़ल गुरु की फांसी के बाद शुरु हुए प्रर्दशनों में पुलिस फ़ायरिंग में दो युवा प्रर्दशनकारी मारे गए हैं.

अफ़ज़ल गुरु की दिल्ली की तिहाड़ जेल में हुई फांसी के बाद शुरु हुए प्रर्दशनों के चलते पूरी कश्मीर घाटी में शनिवार को कर्फ्यू लगा दिया गया था.

अफ़ज़ल गुरु के परिवार वाले अफ़ज़ल के शव को अंतिम संस्कार के लिए गुरु के पैतृक शहर सोपोर लाने की मांग कर रहे हैं. शनिवार सुबह से ही पूरे भारत प्रशासित कश्मीर में इंटरनेट बंद है और सभी ज़िलों में कर्फ्यू लगा हुआ है.

प्रत्यक्षदर्शीयों के अनुसार गुरु के पैतृक शहर सोपोर में सैकड़ों युवा प्रर्दशन करते सड़कों पर उतर आए.

भारतीय अर्ध सैनिक बल सीआरपीएफ़ के उपर आरोप है कि उनके गोलीचालन में रविवार शाम दो लोग मारे गए.

हिंसा

सोमवार को मारे गए लोगों के अंतिम संस्कार में हज़ारों लोग शामिल हुए. यह लोग भारत से आज़ादी के नारे लगा रहे थे.

एक युवा प्रर्दशनकारी जाफ़र अनीस को प्रर्दशन के दौरान बेहोश होने के बाद जब अस्पताल ले जाया गया तो डॉक्टरों ने कहा कि उन्हें, “दिल का हल्का दौरा पड़ा है.”

प्रत्यक्षदर्शीयों के अनुसार बंदीपुरा में पुलिस कार्रवाई से मची भगदड़ के कारण एक युवा की नदी में डूब कर मौत हो गई.

जनाक्रोश फ़ैलने के डर से सुरक्षा के इंतज़ाम और कड़े कर दिए गए हैं.

सोपोर निवासी फ़ारुख अहमद के अनुसार पुलिस पैदल लोगों को भी सड़कों पर नहीं आने दे रही है.

संबंधित समाचार