भारत की ताकत एक अरब उम्मीदें: मुकेश अंबानी

  • 11 फरवरी 2013
मुकेश अंबानी
Image caption अंबानी ने भारतीय अर्थव्यवस्था की ऐसे समय तारीफ़ की है जब भारत के जीडीपी के आंकड़े दस साल के सबसे निचले स्तर पर हैं

दुनिया के सबसे अमीर लोगों में से एक और रिलायंस समूह के मालिक मुकेश अंबानी का कहना है कि एक अरब भारतीयों की तरक्की की चाहत देश को आगे ले जा रही है.

अमरीकी समाचार चैनल सीएनएन पर भारतीय मूल के पत्रकार फ़रीद ज़कारिया के दिए एक इंटरव्यू में मुकेश अंबानी ने भारतीय अर्थव्यवस्था में उन्नति की पूरी उम्मीद जताई है.

अंबानी ने भारतीय अर्थव्यवस्था की ऐसे समय तारीफ़ की है जब भारत के जीडीपी के आंकड़े दस साल के सबसे निचले स्तर पर हैं और दुनिया भर में निवेशक इस बात की शिकायत कर रहे हैं कि भारत में आधारभूत ढांचा चरमरा रहा है तथा सरकार अर्थव्यवस्था के सुधारों के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठा रही है.

इन बातों के मद्देनज़र सवाल किए जाने पर मुकेश अंबानी ने कहा कि भारत में विकास की लड़ाई को केवल जीडीपी के आंकड़ों और सूचकांकों से नहीं मापा जा सकता.

अंबानी ने कहा "भारत में आर्थिक विकास की दर में कुछ गिरावट आई है लेकिन मैं भविष्य को लेकर पूरी तरह से आश्न्वित हूँ. दरअसल यह मामला एक अरब लोगों की आगे बढ़ने की चाहत का है. यहाँ विकास की कहानी नीचे से ऊपर उठी है ऊपर से नीचे की तरफ नहीं आई है"

अपनी बात को विस्तार से समझाते हुए उन्होंने कहा "हमारा देश वह है जहाँ एक अरब में से हर आदमी मायने रखता है. दुनिया में कुछ देशों में केवल एक आदमी की कीमत है. कहीं और पोलित ब्यूरो या 12 लोगों भर का ही महत्त्व है."

दुनिया की सबसे बड़ी तेल रिफायनरियों में से एक के मालिक अंबानी ने कहा " दुनिया भर में छाई मंदी के बीच भारत रास्ता निकाल लेगा. यह समझना होगा कि यह केवल जीडीपी की बात नहीं है यह हर आदमी के भले की बात है जहाँ सब तक विकास पहुंचे."

अंबानी ने अमरीकी अर्थव्यवस्था के पत्री पर लौटने की बात पर भी बल देते हुए कहा "मेरा अनुमान है कि अमरीका अगले पांच से सात साल में ऊर्जा के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएगा उसे दुनिया भर से तेल गैस नहीं खरीदना पड़ेगा."

संबंधित समाचार