क्यों पाकिस्तान से लौटे गुलज़ार?

  • 13 फरवरी 2013
गुलज़ार,गीतकार
Image caption 70 साल बाद गुलज़ार पाकिस्तान स्थित अपने गांव दीना गए थे.

प्रसिद्ध गीतकार गुलज़ार को अपना पाकिस्तान दौरा अधूरा छोड़कर भारत वापस लौटना पड़ा. इस दौरे में उनके साथ फिल्मकार विशाल भारद्वाज भी थे जिनकी फिल्म 'डेढ़ इश्क़िया' के लिए लाहौर में एक क़व्वाली की रिकॉर्डिंग होनी थी जो नहीं हुई.

15 फरवरी से कराची में होने वाले साहित्य समारोह के लिए भी गुलज़ार मुख्य वक्ता थे.

इस आकस्मिक वापसी को लेकर पाकिस्तानी मीडिया में ख़बर आ रही है कि सुरक्षा कारणों को लेकर भारतीय उच्चायुक्त ने गुलज़ार को वापस भेज दिया.

साथ ही ये भी कहा गया कि गुलज़ार की वापसी का कारण पाकिस्तान में अफज़ल गुरु की फांसी को लेकर हो रही कड़ी आलोचनाएं भी हैं.

हालांकि गुलज़ार और विशाल की ओर से जारी एक प्रेस रिलीज़ में कुछ और ही बात सामने आई है.

कुछ राजनीतिक नहीं

इस रिलीज़ में लिखा गया है, "हम वहां डेढ़ इश्क़िया की रिकॉर्डिंग के लिए गए थे. गुलज़ार साब यहां अपने मेंटर प्रसिद्ध शायर अहमद नदीम क़ाज़मी की दरगाह पर भी गए. 70 साल बाद गुलज़ार अपने जन्म स्थान दीना भी पहुंचे जहां पर वो काफी भावुक और तनावग्रस्त हो गए."

रिलीज़ में आगे लिखा गया है, "लाहौर में होटल पहुंचने के बाद भी बेचैन थे. इसलिए विशाल ने रिकॉर्डिंग कैंसल करके उन्हें वापस भारत भेजने का निर्णय किया. इन सबमें कुछ भी राजनीतिक नहीं है. जैसे ही गुलज़ार साब ठीक होते हैं, हम जल्द ही पाकिस्तान जाकर रिकॉर्डिंग पूरी करेंगे."

वहीं बीबीसी के इस्लामाबाद स्थित संवाददाता अबद उल हक़ ने पाकिस्तानी शायर अयूब ख़ावर से बातचीत की, जो बुधवार की दोपहर को गुलज़ार के साथ लंच करने वाले थे.

अयूब ने बताया कि उनके पास फोन आया था कि किसी इमरजेंसी के कारण गुलज़ार वापस जा रहे हैं. पूरी वजह उन्हें नहीं बताई गई.

सुनिए क्या कहा अयूब खावर ने

वहीं पाकिस्तान के अख़बार द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने ख़बर छापी है कि भारतीय उच्चायुक्त ने मीडिया की रिपोर्ट्स को खारिज करते हुए कहा है कि गुलज़ार एक निजी दौरे पर आए थे और उन्हें वापस भेजने के लिए आयुक्त किसी तरह से ज़िम्मेदार नहीं है.

83 वर्षीय गुलज़ार के इस पाकिस्तान दौरे में विशाल के अलावा उनकी पत्नी रेखा भारद्वाज और पाकिस्तानी फिल्म निर्देशक शहज़ाद रफीक़ भी थे.

संबंधित समाचार