तीनों लड़कियों का रेप नहीं हुआ था: पुलिस

Image caption महाराष्ट्र पुलिस ने पहले कहा था कि तीनों लड़कियों का रेप हुआ था.

महाराष्ट्र में भंडारा पुलिस का कहना है कि कुछ समय पहले कम आयु की जिन तीन बहनों के शव एक कुंए में मिले थे उनका बलात्कार नहीं हुआ था.

पहले पुलिस ने ये खबर दी थी कि तीनों बहनों का पहले बलात्कार किया गया था और बाद में उनकी हत्या.

लेकिन अब भंडारा की एसपी आरती सिंह के अनुसार उन्हें फॉरेंसिक रिपोर्ट मिली है जिसमे रेप को खारिज कर दिया गया है.

उन्होंने बीबीसी से बात करते हुए कहा, ‘‘ फोरेंसिक विभाग से हमारी बात हुई है जिसके बाद ये साफ़ हो गया है कि इन लड़कियों का बलात्कार नहीं किया गया था.’’

लेकिन हत्या के पीछे किसका हाथ है या इसका कारण क्या है? इन प्रश्नों के उत्तर अब भी तलाश किए जा रहे हैं. केस की छान बीन करने वाली पुलिस टीम अब तक मामले के तह तक नहीं पहुँच सकी है.

जाँच

आरती सिंह कहती हैं, "अब तक जांच तीन पहलुओं पर केंद्रित थी. बदले की भावना, जायदाद का झगड़ा और हवस लेकिन अब हम हवस की संभावना को खारिज़ कर रहे हैं."

शुरू में पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया था लेकिन अब तक किसी को इस मामले में गिरफ्तार नहीं किया गया है. यूँ तो पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला है.

आरती सिंह कहती हैं कि उन्हें शक है कि ये अपराध लड़कियों के जान पहचान वालों ने ही किया है.

ये मामला एक ऐसे समय सामने आया है जब दिल्ली की एक युवती का सामूहिक बलात्कार हुआ था जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी, इस घटना के विरोध में देश भर में प्रदर्शन हुए थे.

भंडारा हत्या के मामले में तीनों बहनों की उम्र छह साल से ग्यारह साल के बीच है. भंडारा नागपुर से डेढ़ घंटे की दूरी पर है.

इन लड़कियों को आखिरी बार 14 फरवरी को उनके गांव के स्कूल में देखा गया था. दो दिन बाद उनके शव गांव के बाहर एक कुएं से बरामद किए गए थे. पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देकर कहा था कि लड़कियों का पहले बलात्कार किया गया था और तब हत्या.

लड़कियों के पिता का कुछ साल पहले निधन हो गया था, वो अपनी माँ और दादा के साथ रहती थीं.

संबंधित समाचार