'निर्भया अब सारी दुनिया की बेटी है'

सामूहिक बलात्कार
Image caption भारत में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई पीड़िता को बहादुरी के लिए मरणोपरांत अमरीका ने सम्मान दिया है

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई 23 वर्षीय महिला के माता-पिता ने अमरीका द्वारा उनकी बेटी को दिए गए साहसिक महिला पुरस्कार को स्वीकारते हुए कहा है कि उनकी बेटी अब दुनिया की बेटी बन गई है.

अमरीका ने ‘निर्भया’ को मरणोपरांत ये पुरस्कार देने का फैसला किया था.

पीड़िता के माता-पिता का संदेश इस समारोह के दौरान पढ़ा गया.

उन्होंने अपनी बेटी के बारे में अपने गर्व भरे संदेश में कहा, “हम यही समझ रहे थे कि वह हमारी बेटी है लेकिन अब वह पूरी दुनिया की बेटी बन गई. यह हमारे लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है.”

पीड़िता के पिता ने कहा, “अगर किसी लड़की के साथ कोई दुर्व्यवहार हो रहा है तो बेशक उसे अपनी कुर्बानी देनी पड़े लेकिन उसे कभी नहीं झुकना चाहिए.”

खत्म हो रहा है डर

उनका कहना था कि पहले किसी महिला या लड़की के साथ छेड़खानी होती थी तो वो शर्म की वजह से अपने शोषण के ख़िलाफ कोई आवाज नहीं उठा पाती थीं लेकिन इस घटना के बाद से अब वह डर ख़त्म हो रहा है.

बजट भाषण में भारत के वित्त मंत्री पी. चिदंबरम द्वारा ‘निर्भय फंड’ की शुरुआत करने के कदम की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज से यह बेहतरीन कदम है.

वहीं पीड़िता की मां ने उम्मीद भरे लहजे वाले अपने संदेश में कहा, “भविष्य में महिलाएं अब ऐसी घटनाओं का शिकार नहीं बनेंगी, वह इतनी मजबूत हो जाएंगी कि वो सरकार से लड़कर खुद व्यवस्था को सही करने की कोशिश करेंगी.”

असाधारण व्यक्तित्व

उन्होंने अपनी बेटी की तारीफ करते हुए कहा, “हमें लगता था कि वह एक साधारण सी लड़की थी लेकिन उसके अंदर बहुत हिम्मत थी. वह नौवीं कक्षा से ही ट्यूशन पढ़ाती थी. हमें उसको डांटने की कभी जरुरत नहीं पड़ी.”

उनके संदेश में यह साफ झलक रहा था कि उस हादसे के दर्द से उनका परिवार अब तक उबर नहीं पा रहा है.

इस मौके पर अमरीका के रक्षा मंत्री जॉन केरी ने कहा, “निर्भया की बहादुरी से दुनिया की लाखों महिलाओं और पुरुषों में यह चेतना जागृत हुई है कि अब ऐसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जाएंगी.”

उन्होंने कहा कि पीड़िता ने बड़े साहसिक तरीके से पुलिस को दो बार बयान दिये और न्याय हासिल करने की मांग की जिसका पूरी दुनिया ने समर्थन किया.

दुनिया के नाम संदेश

दुनिया भर की महिलाओं के नाम अपने संदेश में पीड़िता के पिता ने कहा, “हम अपने बच्चों को एक ही शिक्षा देते रहे हैं कि तुम्हारा दोस्त पुस्तक ही है. इसी तरह हम दुनिया की सारी लड़कियों को एक संदेश देना चाहते हैं कि किताबें हीं उनकी अच्छी दोस्त हैं और वही आपके व्यक्तित्व को निखार कर दुनिया में आपका सिर ऊंचा कराएगी.”

अमेरिका की प्रथम महिला मिशेल ओबामा और विदेश मंत्री जॉन केरी ने दिल्ली में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई पीड़िता को मरणोपरांत ‘अंतरराष्ट्रीय साहसिक महिला पुरस्कार’ से सम्मानित किया. अमरीकी विदेश मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर दुनियाभर की 10 साहसिक महिलाओं को सम्मानित करने की घोषणा की थी.

संबंधित समाचार