'मैं चाहता था उसे सार्वजनिक रूप से फाँसी हो'

दिल्ली बलात्कार
Image caption विरोध प्रदर्शनों के दौरान सभी अभियुक्तों को फाँसी देने की मांग हुई थी

दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में अभियुक्त राम सिंह की आत्महत्या पर पीड़िता के भाई ने कहा है कि वो इस ख़बर से बहुत खुश नहीं हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बात करते हुए उन्होंने कहा, “मैं इस बात से बहुत खुश नहीं हूँ क्योंकि मैं चाहता था कि उसे सार्वजनिक तौर पर फांसी हो. उसे अपनी शर्त पर मरते हुए देखना अनुचित लगता है.”

पीड़िता के भाई ने उम्मीद जताई कि बाकी सभी अभियुक्त अपनी मौत का इंतजार करेंगे. गौरतलब है कि दिल्ली गैंगरेप के छह अभियुक्तों में से एक राम सिंह प्रमुख अभियुक्त था जिन्होंने सोमवार तड़के कथित तौर ‘आत्महत्या’ कर ली.

पीड़िता के भाई ने कहा कि राम सिंह को पता था कि उनकी मौत होने वाली है क्योंकि उनके खिलाफ केस मजबूत था. सभी अभियुक्तों ने आरोपों से इनकार किया है.

मुक़दमा

पिछले महीने ही पाँचों अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा एक विशेष फास्ट ट्रैक अदालत में शुरू हुआ था जबकि नाबालिग अभियुक्त पर भी मामला कुछ दिनों पहले ही शुरू हुआ था.

अन्य अभियुक्तों के नाम हैं राम सिंह का भाई मुकेश, विनय शर्मा, अक्षय कुमार सिंह और पवन कुमार. उधर राम सिंह के परिवार ने मौत पर सीबीआई जाँच की मांग की है.

राम सिंह की माँ ने बिलखते हुए कहा कि उनका बेटा आत्महत्या नहीं कर सकता.

परिवार ने कहा कि उन्होंने राम सिंह से अदालत में मुलाकात की थी क्योंकि पुलिस ने उन्हें राम सिंह से जेल में मिलने से मना कर दिया था. उन्होंने कहा कि अब वो मुकेश की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.

संबंधित समाचार