तिहाड़ जेल की सुरक्षा में गंभीर चूक: शिंदे

  • 11 मार्च 2013
Image caption गृहमंत्री ने जेल की सुरक्षा में चूक की बात मानी है

भारत सरकार के गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा है कि दिल्ली गैंग रेप के अभियुक्त राम सिंह की जेल में मौत जेल की सुरक्षा में गंभीर चूक है.

उन्होंने कहा, “ये सुरक्षा में गंभीर चूक है. यकीनन ये कोई छोटा मामला नहीं है. इस पर कार्रवाई की जाएगी.”

उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जाएगी और कार्रवाई होगी. गृहमंत्री के मुताबिक इस मामले में जांच के किसी निष्कर्ष पर पहुंचने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है, जिसमें संभवतः दो से तीन हफ़्ते लग सकते हैं.

पुलिस का कहना है कि रामसिंह ने फ़ांसी लगाकर खु़दकुशी की है लेकिन बचाव पक्ष के वकील और रामसिंह के परिवार ने हत्या की आशंका जताई है.

दिल्ली से बीबीसी संवाददाता संजॉय मजूमदार कहते हैं कि राम सिंह की मौत के बाद अधिकारी बहुत शर्मिंदगी भरी स्थिति में फंस गए हैं जो पहले ही इस मामले में दबाव में हैं.

तिहाड़ जेल के प्रवक्ता सुनील गुप्ता ने बीबीसी को बताया कि राम सिंह ने संभवतः सोमवार सुबह पाँच बजे के आसपास कंबल से बनाई रस्सी से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली.

उसके के शव सोमवार शाम को पोस्टमार्टम के लिए दीनदयाल उपाध्याय ले जाया गया.

साज़िश की आशंका

राम सिंह के वकील वीके आनंद ने कहा है कि दिल्ली पुलिस ने उन्हें राम सिंह की मौत के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि उन्हें इसमें साज़िश की आशंका है.

आनंद ने कहा, '' इसके पीछे कोई साज़िश है. वो आत्महत्या नहीं कर सकता. वो ऐसा व्यक्ति नहीं था जो आत्महत्या करता. जिस तरह से इस मामले की सुनवाई हो रही थी वो उससे काफी खुश था.''

राम सिंह के पिता मंगेलाल सिंह का कहना है, '' कई साल पहले हुई सड़क दुर्घटना में उसका एक हाथ बुरी तरह से घायल हो गया था. इसलिए वो खुद को फांसी लगा ही नहीं सकता था.''

उन्होंने आरोप लगाया कि अन्य अभियुक्त उसके साथ अप्राकृतिक संबंध बना रहे थे और गार्ड और अन्य कैदी उसे लगातार धमकियां दे रहे थे.

संबंधित समाचार