संजय दत्त: मुझसे ज़्यादा दया के हक़दार दूसरे

Image caption संजय दत्त ने मुंबई में एक पत्रकार वार्ता में अदालत के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया दी.

1993 मुंबई बम धमाकों से जुड़े एक मामले में सज़ा दिए जाने के बाद अभिनेता संजय दत्त ने कहा है कि वो इस फैसले के खिलाफ अपील नहीं करेंगे.

एक पत्रकार वार्ता में संजय दत्त ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के दिए गए एक महीने की अवधि में जेल जाएंगे.

ये सभी बातें कहते हुए संजय दत्त रो पड़े और अपनी बहन प्रिया दत्त को गले लगा लिया.

उन्होंने कहा, “मैंने माफी के लिए कहीं अर्ज़ी ना देने का फैसला किया है क्योंकि मुझे लगता है कि ऐसे कई और लोग हैं जिन्हें माफी दी जानी चाहिए.”

संजय दत्त को सुप्रीम कोर्ट ने पांच साल की सज़ा सुनाई है, पर वो पहले ही 18 महीने कैद में गुज़ार चुके हैं, इसलिए अब उन्हें करीब साढ़े तीन साल के लिए जेल जाना होगा.

मुंबई में अयोध्या की बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद एक के बाद एक धमाके हुए थे जिसमें 257 लोग मारे गए थे जबकि 700 से ज़्यादा ज़ख्मी हुए थे.

(1993 के मुंबई धमाके: कब, क्या हुआ था)

इससे पहले भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने महाराष्ट्र के गवर्नर को चिट्ठी लिख कर संजय दत्त को माफी देने की अपील की थी.

इसपर बीबीसी हिंदी के सोशल मीडिया पन्ने पर तीखी प्रतिक्रयाएं आईं.

'फिल्में पूरी करूंगा'

संजय दत्त ने कहा कि वो जेल जाने से पहले बचे हुए समय में अपनी फिल्में पूरी करने की कोशिश करेंगे.

गौरतलब है कि जेल में 18 महीने की सज़ा काट चुके संजय दत्त के करीयर को 'मुन्नाभाई' सीरीज़ की फिल्मों ने नई जान दी थी.

लेकिन इस फैसले के बाद अब इस सीरीज़ की तीसरी फिल्म के भविष्य पर सवाल खड़े हो गए हैं.

इस फिल्म को सुभाष कपूर बनाने वाले हैं. इसके अलावा इस वक़्त संजय दत्त राजकुमार हिरानी की 'पीके', रवी कुमार की 'पुलिसगिरी' और अमित मेहरा की 'ज़ंजीर' का हिस्सा हैं.

'ज़ंजीर' में संजय के जो दृश्य हैं वो फिल्माए जा चुके हैं. 'पुलिसगिरी' की 90 प्रतिशत शूटिंग हुई है. 'पीके' के लिए संजय ने चार पांच दिन की ही शूटिंग की है.

संजय दत्त ने कहा कि वो कानून की इज़्ज़त करते हैं और अदालत के फैसले का सम्मान करेंगे.

संबंधित समाचार