एसएफआई नेता की मौत पर कोलकाता में बवाल

सुदीप्तो गुप्ता की मौत
Image caption गुस्साए छात्रों ने ममता बनर्जी के प्रति जमकर नारेबाजी की.

एसएफआई नेता सुदीप्तो गुप्ता की मौत के बाद विपक्ष के दबाव में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने इस घटना को दुखद बताया है. मगर सीपीएम द्वारा की जा रही न्यायिक जांच की मांग से जुड़े सवाल को वे टाल गईं.

पार्टी ने पुलिस के इस दावे को नकार दिया है कि गुप्ता की मौत बस से गिरकर हुई. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने कोलकाता में स्टूडेन्ट्स फेडरेशन आफ इंडिया यानी एसएफआई नेता सुदीप्तो गुप्ता की पुलिस हिरासत में मौत की न्यायिक जांच की मांग की है. सीपीएम नेता राबिन देव ने बताया, "हमने गुप्ता की मौत की न्यायिक जांच की मांग की है. उनकी मौत पुलिस द्वारी किए गए बर्बर लाठीचार्ज के कारण हुई."

न्यायिक जांच की मांग पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बस इतना कहा, "कोई भी मौत दुखद होती है. यह मौत भी दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं इससे अधिक कुछ नहीं कहूंगी. "

बनर्जी उस समय एसएसकेएम अस्पताल के बाहर मौजूद पत्रकारों से मुखातिब थीं जहां एसएफआई नेता सुदीप्तो गुप्ता की मौत हुई थी. वे अस्पताल के भीतर नहीं गई, लेकिन छात्रनेता के परिवार को हरसंभव मदद करने का आश्वासन दिया. अस्पताल के बाहर मौजूद एसएफआई कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. संदीप्तो गुप्ता के पिता प्रणब कुमार गुप्ता ने राज्य सरकार द्वारा की जाने वाली मदद की किसी भी पेशकश को ठुकरा दिया. उन्होंने मुख्यमंत्री पर सवाल दागते हुए कहा, "मेरे बेटे को पीट-पीट कर मारा डाला गया. क्या यही इंसाफ है? वे मुझे पैसे देने की कोशिश कर रही हैं, मगर क्या वे मेरा बेटा मुझे लौटा सकती हैं?" सुदीप्तो गुप्ता की मौत ने कोलकाता में एक बवाल खड़ा कर दिया है. उधर, सुदीप्तो गुप्ता की मौत के मामले में पुलिस ने उस बस के ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसके बारे में कहा जा रहा है कि इसी बस में गुप्ता और उनके समर्थक को गिरफ्तार कर ले जाया जा रहा था. 22 वर्षीय सुदीप्तो गुप्ता मार्क्सावादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की छात्र शाखा के कार्यकर्ता थे. कोलकाता में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान सिर पर चोट लगने के कारण मंगलवार को गुप्ता की मौत हो गई थी. पुलिस का दावा है कि सुदीप्तो की मौत बस से गिरने के कारण हुई, जबकि एसएफआई का आरोप है कि उनकी मौत पुलिस लाठीचार्ज में घायल होने की वजह से हुई. सुदीप्तो गुप्ता की शवयात्रा में आज सैकड़ों एसएफआई नेता शामिल हुए. लेफ्ट के तमाम नेता भी छात्र को अंतिम विदाई देने के लिए इकट्ठा हुए.

संबंधित समाचार