ठाणे इमारत दुर्घटना, बिल्डर गिरफ़्तार

ठाणे इमारत
Image caption मारे जाने वालों में 26 बच्चे भी शामिल हैं.

ठाणे में सात मंजिला निर्माणाधीन इमारत गिरने की घटना में मरने वालों की संख्या 72 हो गई है और 50 से अधिक लोग घायल हुए हैं.

मृतकों में 26 बच्चे भी शामिल हैं. राहत एवं बचाव कार्य मे लगी एजेंसी का कहना है कि बचाव कार्य अब ख़त्म कर दिया गया है.

इस बीच इस इमारत के बिल्डर जमील कुरैशी को दिल्ली हवाई अड्डे पर गिरफ़्तार कर लिया गया है और उन्हें मुंबई लाया जा रहा है.

पुलिस का कहना है कि ये एक अवैध इमारत थी और वन विभाग की ज़मीन पर बनी थी. मरने वालों में अधिकांश मजदूर हैं जो कि इमारत में ही रह रहे थे.

राहत एवं बचाव

स्थानीय पुलिस आयुक्त के पी रघुवंशी ने समाचार एजेंसी एपी से कहा कि मलबे में और लोगों के दबे होने की आशंका है.

राहत एवं बचाव कार्य जोर शोर से चल रहा है. मलबा हटाने के लिए छह बुलडोजर लगाए गए हैं. मलबे से 100 लोगों को निकाला जा चुका है.

पुलिस इंस्पेक्टर दिगंबर जगदाले ने बताया कि इमारत की पहली चार मंजिलों पर ऑफिस थे लेकिन गुरुवार शाम को दुर्घटना के समय अधिकांश लोग घर जा चुके थे.

इमारत में चार मंजिल और बनाई जा रही थीं. इनमें से तीन मंजिल बन चुकी थीं. पुलिस ने बताया कि इमारत गिरने के कारणों का तत्काल पता नहीं चल पाया है.

लापता

इमारत का निर्माण कराने वाले बिल्डर सलिल और खालिद जमादार घटना के बाद से ही लापता हैं. पुलिस ने उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 304 के अधीन मामला दायर कर लिया है.

पुलिस ने दावा किया है कि मलबे से जिन लोगों के शव निकाले गए हैं उनमें से एक गर्भवती महिला भी थी. उसकी पहचान कर ली गई है. उसका नाम शकीला इमरान सिद्दीकी है.मरने वालों में ज्यादातर अप्रवासी मजदूर हैं.

पिछले कुछ सालों में देखा गया है कि मुंबई और दिल्ली जैसे शहरों में इमारत गिरने के कई मामले सामने आए हैं. जानकारों का दावा है कि रीयल स्टेट के क्षेत्र में आए उछाल ने अवैध इमारतों के निर्माण को प्रोत्साहन दिया है.

संबंधित समाचार