बलात्कार के खिलाफ फिर सड़कों पर दिल्ली

  • 21 अप्रैल 2013
दिल्ली की सड़कों  पर उतरा गुस्सा
Image caption फिर उठा महिलाओं की सुरक्षा मुद्दा

पांच साल की एक बच्ची के साथ हुए बलात्कार के बाद शनिवार को दिल्ली में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुए और सैंकड़ों लोग सड़कों पर उतर आए.

प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह सरकार और पुलिस के खिलाफ नारे लगाए.

उन्होंने दिल्ली पुलिस मुख्यालय, गांधीनगर पुलिस थाना, आईटीओ, मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के आवास, केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के आवास, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास और एम्स अस्पताल के बाहर अपना गुस्सा जाहिर किया.

पांच साल की बच्ची को उसी के पड़ोसी ने पहले अगवा किया फिर एक कमरे में बंद कर उसके साथ कथित तौर पर दुष्कर्म करता रहा.

माता-पिता ने बच्ची के गुम होने की शिकायत पुलिस थाने में कराई, लेकिन आरोप है कि पुलिस मामले पर ढील बरतती रही.

पुलिस ने बलात्कार के अभियुक्त को बिहार के मुजफ्फरपुर से गिरफ्तार किया है.

पुलिस विरोधी नारे

प्रदर्शनकारी 'दिल्ली पुलिस होश में आओ', 'एसीपी को बर्खास्त करो', 'शीला दीक्षित डाउन डाउन' जैसे नारे लगा रहे थे. उन्होने मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के साथ साथ दिल्ली के पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार के इस्तीफे की भी मांग की.

Image caption दिल्ली में लगातार यौन अपराध की घटनाएं सामने आ रही हैं

विभिन्न छात्र और महिला संगठनों ने केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के आवास के बाहर भी प्रदर्शन किए. रात में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास के बाहर भी प्रदर्शन किए गए.

इन विरोध प्रदर्शनों में आम जनता के अलावा वामपंथी महिला संगठन 'ऐपवा' और 'ऐडवा' और 'एसएफआई' तथा 'आम आदमी पार्टी' के कार्यकर्ता शामिल थे.

पीड़ित बच्ची के माता पिता को कथित तौर पर 2 हजार रुपए रिश्वत देने के मामले पर लोगों ने गांधीनगर थाने के बाहर भी जमकर नारेबाजी की.

इससे पहले शुक्रवार को अस्पताल में विरोध दर्ज करने गई एक लड़की को पुलिस अधिकारी ने थप्पड़ मारा. इससे पुलिस के खिलाफ लोगों में गुस्सा बढा है.

लोगों के बढ़ते विरोध को देखते हुए इंडिया गेट और आसपास के इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है.

संबंधित समाचार