क्या फेसबुक पर हो उम्र की सीमा?

Image caption फेसबुक के नियमों के मुताबिक अकाउंट खोलने की उम्र 13 साल या उससे ज़्यादा होनी चाहिए.

दिल्ली हाई कोर्ट ने सरकार से पूछा है कि क्या कि 18 साल से कम के बच्चों को फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स पर अकाउंट खोलने की इजाज़त कैसे दी जा रही है.

इस मामले पर एक व्यक्ति ने उच्च न्यायालय ने एक याचिका दाख़िल किया था.

कोर्ट का कहना था कि 18 वर्ष से कम के वयस्कों का फेसबुक पर अकाउंट खोलना ग़ैर-कानूनी है, जबकि फेसबुक के नियमों के मुताबिक 13 साल या उससे ज़्यादा उम्र के बच्चे फेसबुक पर अकाउंट खोल सकते हैं.

इस मामले पर भारत सरकार को जवाब देने के लिए दस दिन की मौहलत दी गई है.

इस बीच हमनें अपने पाठकों से बीबीसी हिंदी के फेसबुक पेज पर पूछा कि उन्होंने अपना फेसबुक अकाउंट किस उम्र में खोला और क्या फेसबुक अकाउंट खोलने के लिए किसी उम्र को पार करना ज़रूरी है?

जहां कुछ पाठकों ने फेसबुक पर उम्र की सीमा तय किए जाने का विरोध किया वहीं कुछ का कहना था कि फेसबुक पर मौजूद सामग्री का बच्चों पर गलत असर होता है इसलिए 18 साल से कम के बच्चों को ये इजाज़त नहीं दी जानी चाहिए कि वे अपना अकाउंट फेसबुक पर खोलें.

‘मां के गर्भ से ही...’

फेसबुक पर रखे गए सवाल पर कमेंट करते हुए मानौवर हुसैन अंसारी ने बताया कि उन्होंने अपना फेसबुक अकाउंट 18 की उम्र पार करने के बाद खोला और ये सख्त नियम होना चाहिए कि किसी भी 18 साल से कम के बच्चे को ऐसा न करने दिया जाए.

उनका कहना था कि ‘फेसबुक पर अश्लील बातें होती हैं और कम उम्र के लड़के और लड़कियों का स्वभाव अपरिपक्व होता है जिसके कारण वे गलत रास्तों को जल्दी पकड़ लेते हैं.’

उधर साबित अली का कहना था कि ‘आजकल तो आठ वर्ष के बच्चे भी 18 साल या उससे ज़्यादा की उम्र के लोगों से कहीं आगे निकल रहे हैं.’

साबित अली के विचारों से इत्तेफाक रखते हुए देओ पीयूष प्रियदर्शी ने कहा कि अकाउंट खोलने पर उम्र की सीमा नहीं होनी चाहिए लेकिन फेसबुक पर से पोर्न सामग्री हटा दी जानी चाहिए.

वहीं ऋषि मंडल ने इस खबर पर चुटकी लेते हुए कहा कि ‘मां के गर्भ में जब बच्चा पनपता है, तभी से फेसबुक पर अकाउंट खोलने की इजाज़त होनी चाहिए.’

इस बहस के बीच हिमांशु रॉय नाम के पाठक ने एक वाजिब सवाल उठाया.

'क्या फर्क पड़ता है?'

उन्होंने कहा, “इस बात का कोई सही सबूत ही नहीं है कि फेसबुक पर अकाउंट खोलने वाले की सही उम्र क्या है. वैसे भी फेसबुक पर आजकल लोग सब कुछ कर लेते हैं तो क्या फर्क पड़ता है कि उसकी उम्र 18 साल हो या 18 महीने? लेकिन हां जब किसी नेता के बारे में फेसबुक पर टिप्पणी की जाती है, तो अधिकारी हरकत में आ जाते हैं.”

उन्होंने आगे लिखा कि इस मामले में गलती सरकार की या आम जनता की नहीं, बल्कि फेसबुक के संस्थापक मार्क ज़करबर्ग की है...उन्हें लोगों की मानसिकता के बारे में भी सोचना चाहिए था और ये कि इसका गलत इस्तेमाल भी हो सकता है.

बोय खिलाड़ी नाम के फेसबुक यूज़र का कहना था कि मां-बाप को अपने बच्चे पर नज़र रखनी चाहिए कि वे फेसबुक पर किस तरह की गतिविधियां कर रहे हैं.

अभिषेक मिश्रा ने कहा कि ‘बच्चों की फेसबुक गतिविधियों पर नज़र रखना बहुत ज़रूरी है क्योंकि इस साइट पर मौजूद सामग्री का उनके कच्चे दिमाग पर बुरा असर हो सकता है. आजकल बच्चे फेसबुक पर लाइक और कमेंट पाने के लालच में कई गतिविधियां करते हैं. लेकिन आखिरकार ये उनके आत्मविश्वास पर भी निर्भर है कि वे फेसबुक पर होने वाली गलत चीज़ों से कितना प्रभावित हों और कितना नहीं.’

(बीबीसी हिन्दी से जुड़ने के लिए क्लिक करें फेसबुक के हमारे पन्ने पर हमें लाइक करें और क्लिक करें ट्विटर पर हमें फॉलो करें.)

संबंधित समाचार