महेश कुमार निलंबित, रेल मंत्री पर दबाव

महेश कुमार
Image caption रेलवे ने महेश कुमार को निलंबित कर दिया है.

रेल मंत्री पवन कुमार बंसल के भांजे विजय सिंगला को कथित तौर पर नब्बे लाख रुपए की रिश्वत देने के अभियुक्त रेलवे बोर्ड के मेंबर (स्टाफ़) महेश कुमार को रेलवे ने निलंबित कर दिया है.

रेलवे ने कहा है कि ये क़दम सीबीआई की रिपोर्ट आने के बाद उठाया गया है.

रेलवे के जन संपर्क विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक अनिल सक्सेना ने पीटीआई को बताया, " सीबीआई से आई आधिकारिक रिपोर्ट के बाद रेल मंत्रालय ने मेंबर (स्टाफ़) महेश कुमार को निलंबित कर दिया है. "

सीबीआई ने महेश कुमार को रेल मंत्री के भांजे विजय सिंगला को रिश्वत देने के आरोप में गिरफ़्तार किया था. इससे पहले विजय सिंगला को भी सीबीआई ने गिरफ़्तार कर लिया था.

आरोप है कि महेश कुमार ने ये रिश्वत रेलवे बोर्ड में ऊंचा ओहदा पान के लिए दी थी.

Image caption सीबीआई ने विजय सिंगला को चंडीगढ़ से गिरफ़्तार किया.

लेकिन इससे पहले शनिवार शाम रेल मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा था, "मीडिया में ऐसी रिपोर्ट आ रही हैं कि महेश कुमार ऊंचा ओहदा पाने के इच्छुक थे, जबकि ऐसा कोई पद वर्तमान में खाली नहीं है. "

रेल मंत्रालय ने कहा था कि महेश कुमार की मेंबर (स्टाफ़) के पद पर नियुक्ति नियमों के आधार पर की गई है.

ये विज्ञप्ति जारी किए जाने के कुछ घंटे बाद ही महेश कुमार को निलंबित कर दिया गया.

सियासी दबाव

विपक्षी दल इस सारे मामले पर रेल मंत्री पवन कुमार बंसल के त्यागपत्र की मांग कर रहे हैं.

भाजपा ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि केंद्र सरकार दलालों और बिचौलियों के लिए काम कर रही है.

वरिष्ठ भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस प्रकरण से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे की उनकी पार्टी की मांग को और 'बल' मिला है.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, "कांग्रेस ने सरकार को बाजार बना दिया है, जहां हर फैसले की कीमत लगाई जा सकती है. यह चिंताजनक स्थिति है."

लेकिन रेल मंत्री ने अपने भांजे के साथ किसी तरह के कारोबारी संबंध न होने की बात करते हुए कहा कि इस मामले में उनकी कोई गलती नहीं है.

संबंधित समाचार