पाक:सज़ा पूरी कर चुके क़ैदियों को लौटाए भारत

Image caption सनाउल्लाह को 1994 में गिरफ्तार किया गया था. उन्हें जम्मू और उसके आस पास बम धमाके करवाने का दोषी पाया गया था.

पाकिस्तानी कैदी सनाउल्लाह की भारत में हुई मौत पर पाकिस्तान ने “गहरा दुख” जताया है.

इस मामले में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की ओर से प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की गई है.

इसमें कहा गया है,“भारत प्रशासित कश्मीर की एक जेल में सनाउल्लाह पर घातक हमला किया गया. इसी से उसकी मौत हो गई.”

पढ़िए: सनाउल्लाह कौन थे?

“जघन्य अपराध करने वालों के खिलाफ कार्रवाई” की मांग करते हुए पाकिस्तान ने “मामले की जांच” की भी मांग की है.

इसके अलावा पाकिस्तान ने भारत की अन्य जेलों में बंद उन कैदियों को वापस पाकिस्तान भेजने की मांग की है “जिनकी सज़ा पूरी हो चुकी है.”

पाकिस्तान ने ये भी कहा है कि भारत “जेलों में कैद पाकिस्तानी कैदियों के बारे में बिंदुवार चर्चा करे.”

भारत की जम्मू जेल में कैद सनाउल्लाह की सुबह ही चंडीगढ़ स्थित पीजीआई में मौत हो गई थी.

इसी महीने की तीन तारीख को जेल में कुछ कैदियों ने सनाउल्लाह पर जानलेवा हमला किया था. गंभीर रूप से जख्मी हो के बाद आगे के इलाज के लिए उन्हें चंडीगढ़ के पीजीआई में भर्ती कराया गया था.

कौन थे सनाउल्लाह?

स्थानीय पत्रकार विषभ भारती ने कहा था कि सनाउल्लाह की मौत कई अंगों के एक साथ काम करना बंद कर देने की वजह से हुई.

हालत बिगड़ने के बाद उन्हें डायलिसिस पर रखा गया था.

सनाउल्लाह हक़ पाकिस्तान के सियालकोट के निवासी थे. उन्हें 17 साल पहले भारत में गिरफ़्तार किया गया था.

उन पर हत्या समेत कुल आठ मामले चल रहे थे. इनमें से दो में उन्हें आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई थी.

भारतीय कैदी और कथित जासूस सरबजीत की पाकिस्तान में हुई मौत के अगले जिन सनाउल्लाह पर हमला किया गया था.

जिस वक्त सनाउल्लाह पर हमला किया गया था, उसी वक्त सरबजीत का अंतिम संस्कार किया जा रहा था.

संबंधित समाचार