चीन का महत्वपूर्ण पड़ोसी है भारत: ली

Image caption ली कचियांग के साथ एक 80 सदस्सीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है.

भारत को अपना महत्वपूर्ण पड़ोसी बताते हुए चीन के प्रधानमंत्री ली कचियांग ने कहा है कि उनकी यात्रा का मुख्य उद्देश्य परस्पर हित के क्षेत्रों को बढ़ाना, सहयोग को और मजबूत करना है.

ली कचियांग सोमवार को राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मौजूदगी में संवाददाताओं को संबोधित कर रहे थे.

(भारत-चीन संबंधों का विश्लेषण)

उन्होंने कहा कि इस साल मार्च में प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद यह उनकी पहली विदेश यात्रा है. दोनों पक्षों के बीच औपचारिक बातचीत भी होगी.

चर्चा का विषय

इसके पहले रविवार को तीन दिवसीय यात्रा के लिए भारत पहुंचने के बाद चीनी प्रधानमंत्री ली कचियांग ने प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के साथ रात्रिभोज पर बातचीत की. इस बातचीत को कचियांग ने सार्थक बताया.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ली कचियांग के सम्मान में सोमवार रात रात्रिभोज का आयोजन कर रहे हैं.

सूत्रों के मुताबिक़ कचियांग के साथ बातचीत में मनमोहन सिंह ने हाल में लद्दाख में सीमा पर पैदा हुए विवाद का मुद्दा उठाया. इस दौरान उन्होंने सीमा पर शांति बनाए रखने पर जोर दिया. मनमोहन सिंह ने दोनों देशों में बहने वाली नदियों के पानी और चीन में ब्रह्मपुत्र नदी पर बनाए जा रहे बांध का मुद्दा भी उठाया.

दोनों नेता इस बात पर सहमत थे कि सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए वार्ताकारों के दल की बैठक जल्द से जल्द होनी चाहिए.

ली कचियांग के साथ एक 80 सदस्सीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है. इसमें विदेश मंत्री वांग यी भी शामिल हैं. चीनी प्रधानमंत्री मंगलवार को मुंबई जाएंगे. वहाँ से उनका पाकिस्तान, स्विट्जरलैंड और जर्मनी जाने का कार्यक्रम है.

भारत पहुंचने के बाद ली कचियांग ने कहा था, "मैं चीन के एक अरब 30 करोड़ लोगों की ओर से भारत की एक अरब 20 करोड़ लोगों के लिए शुभकामनाएं लाया हूँ."

विरोध-प्रदर्शन

चीनी प्रधानमंत्री ली कचियांग की भारत यात्रा के विरोध में निर्वासित तिब्बतियों ने नई दिल्ली के चाणक्यपुरी इलाक़े में प्रदर्शन किया. इस दौरान पुलिस ने कई तिब्बती लोगों को हिरासत में ले लिया.

भारत प्रशासित कश्मीर के लद्दाख इलाक़े में पिछले दिनों चीनी सेना के कथित अतिक्रमण के विरोध में नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर कुछ संगठनों ने धरना-प्रदर्शन किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार