नक्सली हमले के बाद छत्तीसगढ़ पहुंचे मनमोहन और सोनिया

  • 26 मई 2013
महेंद्र कर्मा पर पहले भी कई हमले हो चुके हैं

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर बड़े नक्सली हमले के बाद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष राज्य के दौरे पर पहुंचे. हमले में प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार और वरिष्ठ नेता महेंद्र कर्मा समेत 23 की मौत.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पहले ही वहां पहुंच चुके हैं. छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में शनिवार को नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर हमला किया.

डीजीपी रामनिवास ने बीबीसी को बताया कि हमले में अब तक 23 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की जा चुकी है. इनमें कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार पटेल और वरिष्ठ नेता महेंद्र कर्मा भी शामिल हैं.

डीजीपी ने बताया कि हमले में गंभीर रूप से घायल हुए वरिष्ठ कांग्रेसी नेता विद्या चरण शुक्ल को इलाज को लिए दिल्ली भेजा गया है जबकि कई घायलों को जगदलपुर से रायपुर लाया गया है.

मृतकों में पूर्व विधायक उदय मुदलियार और गोपी माधवानी भी शामिल हैं.

पहले खबरें थी कि नंद कुमार पटेल और उनके बेटे का नक्सलियों ने अपहरण कर लिया है लेकिन बाद में घटनास्थल के पास ही उनके शव बरामद किए गए.

नक्सली हमला

महेंद्र कर्मानक्सल विरोधी सलवा जुड़ुम अभियान के जन्मदाता माने जाते थे.

दंतेवाड़ा के कलेक्टर देव सेनापति ने बीबीसी संवाददाता सलमान रावी को बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री विद्याचरण शुक्ल के पेट और पैर में गोली लगी है. घायलों को जगदलपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है और अब उन्हें दूसरे अस्पतालों में भेजा जा रहा है.

राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए जानकारी दी है कि इस घटना में 16 लोग मारे गए हैं जिनमें पुलिसकर्मी भी शामिल हैं.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अनुसार बस्तर जिले की जीरम घाटी के करीब नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर हमला किया.

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही क्षेत्र के लिए पुलिस दल रवाना कर दिया गया है.

कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा में छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष नंद कुमार पटेल, पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और विधानसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष महेंद्र कर्मा समेत लगभग 120 लोग शामिल थे. हालांकि अजित जोगी घटना से कुछ समय पहले ही हेलिकॉप्टर रायपुर रवाना हो गए थे.

बीबीसी संवाददाता सलमान रावी को मिली जानकारी के मुताबिक लगभग 20 वाहनों की यह परिवर्तन यात्रा जब जीरम घाटी के करीब पहुंची, तब नक्सलियों ने पेड़ गिराकर रास्ता रोक लिया और कांग्रेस के काफिले पर ज़बर्दस्त गोलीबारी शुरू कर दी.

राज्य के नक्सलरोधी अभियान के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश गुप्ता के मुताबिक, "करीब दो सौ से ढाई सौ की संख्या में हथियारों से लैस नक्सलियों ने इस यात्रा पर हमला बोल दिया और गोलीबारी शुरू कर दी."

उन्होंने बताया कि नक्सलियों से रास्ता बंद कर दिया और हमले में बारूदी सुरंग में भी विस्फोट किया.

मुकेश गुप्ता के मुताबिक कई नेताओं को नक्सलियों ने काफी नज़दीक से गोली मारी.

चुनावी साल

गौरतलब है कि कांग्रेस ने पिछले 12 अप्रैल से परिवर्तन यात्रा की शुरूआत की है और राज्य में इसी साल चुनाव भी होने वाले हैं.

नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा को लेकर पहले ही धमकी दी थी. खासकर माओवादियों के खिलाफ सलवा जुड़ूम अभियान का समर्थन करने वाले कांग्रेसी नेता महेंद्र कर्मा को लेकर माओवादिओं का गुस्सा पुराना था.

महेंद्र कर्मा छत्तीसगढ़ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं और राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके हैं. नक्सलविरोधी सलवा जुडुम अभियान के जन्मदाता होने की वजह से उन पर पहले भी हमले हो चुके हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस नेताओं पर हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसे 'लोकतांत्रिक मूल्यों' पर हमला करार दिया है.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने इस घटना के बाद राज्य में तीन दिन के राजकीय शोक का एलान किया है.

हमले में घायल हुए लोगों का हाल जानने के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी रायपुर पहुंच गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार