एमवे के भारत प्रमुख समेत तीन हिरासत में

Image caption गिरफ्तार किए गए तीनों अधिकारियों के खिलाफ गैर ज़मानती वारंट जारी किए गए थे.

नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी एमवे के भारत में प्रमुख और मुख्य कार्यकारी विलियम एस पिंकने समेत तीन अधिकारियों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

वित्तीय अनियमितताओं से जुडे़ मामले में सोमवार को कंपनी के तीनों अधिकारियों को केरल के वायानाड के गिरफ्तार किया गया था.

वायानाड के पुलिस अधीक्षक एवी जॉर्ज ने बीबीसी को बताया, "गिरफ्तार किए गए एमवे के तीनों अधिकारियों में एक अमरीकी और दो भारतीय नागरिक शामिल है. तीनों को अदालत ने 14 दिन की हिरासत में भेज दिया है."

पिंकनी और एमवे के दो डायरेक्टर संजय मल्होत्रा और अंशु बुधराजा के खिलाफ प्राइज़ चिट्ज़ एंड मनी सर्कुलेशन स्कीम एक्ट के तहत मामले दर्ज किए गए है.

एमवे के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई एक महिला की शिकायत पर हुई है, जिन्होंने दावा किया था कि एमवे के नेटवर्क से उनका वित्तीय नुकसान हुआ है. एमवे के खिलाफ केरल के वायानाड में तीन मामले दर्ज किए गए है.

गिरफ्तारी

कुछ हफ्तें पहले भी पुलिस ने विलियम एस पिंकनी और कंपनी के डायरेक्टर संजय मल्होत्रा और अंशु बुधराजा से पूछताछ की थी, लेकिन आगे की पूछताछ के लिए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

पिछले साल क्राइम ब्रांच की वित्तीय अपराध शाखा ने थ्रिशूर, कोझीकोड और कन्नूर में स्थित एमवे के दफ्तरों में छापा मारा था. एमवे के ऑफिस और गोदामों में मिले सामानों को भी जब्त कर लिया गया था.

इसी बीच एमवे ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि कंपनी केरल पुलिस का पूरा सहयोग कर रही है.

विज्ञप्ति में कहा गया कि कंपनी के गिरफ्तार किए गए तीनों अधिकारी सीबी-सीआईडी के हर सवाल का जवाब देने के लिए पहले भी प्रस्तुत रहे हैं.