अभी हिरासत में ही रहेंगे विंदू-मेयप्पन

विंदू दारा सिंह

मुंबई की एक अदालत ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग के मामले में गिरफ़्तार विंदू दारा सिंह और चेन्नई सुपर किंग्स से जुड़े गुरुनाथ मेयप्पन की पुलिस हिरासत की अवधि तीन जून तक के लिए बढ़ा दी है.

मुंबई पुलिस का कहना है कि उसे इन दोनों से और पूछताछ करनी है. गुरुनाथ मेयप्पन बीसीसीआई प्रमुख एन श्रीनिवासन के दामाद हैं.

चेन्नई सुपर किंग्स की मालिक कंपनी इंडिया सीमेंट्स ने बयान जारी करके स्पष्ट किया था कि मेयप्पन न टीम के मालिक हैं और न ही टीम प्रिंसिपल. बयान के मुताबिक़ मेयप्पन सिर्फ़ टीम के मानद सदस्य हैं.

असल में मुंबई पुलिस आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग के मामले में विंदू दारा सिंह और मेयप्पन के चेन्नई लिंक की जांच-पड़ताल करना चाहती है. चेन्नई के होटल मालिक विक्रम अग्रवाल से मुंबई पुलिस पूछताछ कर रही है.

पुलिस के मुताबिक़ विक्रम अग्रवाल मेयप्पन के दोस्त रहे हैं और दोनों से एक साथ पूछताछ में अहम सवालों के जवाब मिल सकते हैं. मेयप्पन को 25 मई को गिरफ़्तार किया गया था.

मनमोहन का बयान

Image caption बीसीसीआई प्रमुख श्रीनिवासन के दामाद हैं मेयप्पन

दूसरी ओर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आईपीएल फिक्सिंग मामले पर कहा है कि राजनीति और खेल को एक दूसरे से अलग रखा जाना चाहिए.

हालांकि उनका ये भी कहना था कि इस मामले में जब तक जांच पूरी नहीं हो जाती, कुछ भी कहना ठीक नहीं होगा.

बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अजय शिर्के ने भी मीडिया से बातचीत की. शिर्के ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में गड़बड़ियों पर दुख जताया.

अजय शिर्के का कहना था कि स्पॉट फिक्सिंग की वजह से बीसीसीआई की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हो गए हैं. शिर्के ने दो दिन पहले मीडिया में कहा था कि अगर वो श्रीनिवासन की जगह होते तो अब तक अपना त्यागपत्र दे चुके होते.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार