आडवाणी ने भाजपा के पद छोड़े, पार्टी में संकट

Image caption आडवाणी गोवा कार्यकारिणी में शामिल नहीं हुए थे

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने पार्टी के महत्वपूर्ण पदों से इस्तीफ़ा दे दिया है.

पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह को भेजे एक पत्र में आडवाणी ने कहा है, ‘‘ मैंने फैसला किया है कि मैं पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी, संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति से इस्तीफ़ा दे दूं और इस पत्र को मेरा इस्तीफ़ा माना जाए.’’

भाजपा: चिंतकों और अध्यक्षों की झलक

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनाव समिति का प्रमुख बनाए जाने से आडवाणी नाराज़ बताए जा रहे थे और वो पार्टी की गोवा में हुई कार्यकारिणी की बैठक में भी शामिल नहीं हुए थे.

85 साल के आडवाणी ने अपने पत्र में लिखा है कि वो पार्टी की वर्तमान कार्यशैली में कठिनाई महसूस कर रहे हैं और इसलिए वो इस्तीफा दे रहे हैं.

आडवाणी को मनाने की कोशिश

अपने पत्र में आडवाणी लिखते हैं, ‘‘ कुछ समय से जिस दिशा में पार्टी जा रही है उससे और पार्टी की वर्तमान कार्यशैली के साथ तालमेल बिठाने में मैं कठिनाई महसूस कर रहा हूं. अब मुझे नहीं लगता कि ये वो ही पार्टी है जो आदर्शवादी पार्टी डॉ मुखर्जी, पंडित दीनदयालजी, नानाजी और वाजपेयीजी ने बनाई थी. जिसका मुख्य उद्देश्य देश और उसके लोग थे. अब हमारे नेताओं का मुख्य उद्देश्य अपना निजी एजेंडा हैं.’’

'पत्र को इस्तीफ़ा माना जाए'

आडवाणी ने इसी पत्र में लिखा है कि उनके पत्र को ही इस्तीफा माना जाए.

Image caption साल 2009 के आम चुनाव में लालकृष्ण आडवाणी बीजेपी के प्रधानमंत्री उम्मीदवार थे. ये जानकारी आज भी उनके वेबसाइट पर मौजूद है.

हालांकि उन्होंने पत्र की शुरुआत में ये भी कहा है कि उन्हें जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी के लिए काम करने में गर्व महसूस हुआ है और असीम संतुष्टि भी मिली है.

अभी एक दिन पहले ही गोवा में रविवार को गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को 2014 के चुनाव के लिए चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाया गया है. बताया गया था कि आडवाणी बीमार हैं और इसलिए कार्यकारिणी में नहीं आ सकते.

1980 में भाजपा के गठन के बाद ये पहला मौक़ा था जब आडवाणी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल नहीं हुए.

हालांकि गोवा में नया रोल मिलने के बाद मोदी ने ट्विट किया था, "मैने आडवाणी जी से फोन पर बात की. उन्होंने मुझे अपना आशीर्वाद दिया. उनका आशीर्वाद पाकर मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूँ."

आडवाणी के अलावा पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह और उमा भारती भी गोवा में शामिल नहीं हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार