मनमोहन मंत्रिमंडल में आठ नए चेहरे

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मनमोहन सिंह मंत्रिमंडल में आठ नए लोगों को मंत्रिपद की शपथ दिलाई है.

इनमें चार कैबिनेट मंत्री और चार राज्यमंत्री बनाए गए.

इसके साथ ही मनमोहन सिंह मंत्रिमंडल की कुल संख्या 77 तक पहुँच गई है.

कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ लेने वालों में झुंझनू (राजस्थान) से बुज़ुर्ग सांसद शीशराम ओला हैं.

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से सांसद गिरिजा व्यास भी केंद्रीय मंत्री बनाई गई हैं.

कर्नाटक से काँग्रेस के राज्यसभा सदस्य ऑस्कर फर्नांडिस को काँग्रेस महासचिव पद से हटाकर केंद्रीय मंत्री का स्थान दिया गया है.

उधर आँध्र प्रदेश से काँग्रेस सांसद डॉक्टर कावुरु साम्पा सिवाराम भी कैबिनेट मंत्री बनाए गए हैं.

राज्यमंत्री

राज्यमंत्रियों के तौर पर शपथ लेने वालों में महाराष्ट्र के नंदरबार से काँग्रेस सांसद माणिकराव एच. गावित, होशियारपुर (पंजाब) से सांसद संतोष चौधरी, तमिलनाडु से राज्यसभा सदस्य डॉक्टर ईएमएस नचियप्पन और आँध्र प्रदेश से राज्यसभा सदस्य जेसुदास सीलम शामिल हैं.

इसे 2014 में होने वाले आम चुनावों से पहले होने वाला आख़िरी मंत्रिमंडलीय फेरबदल माना जा रहा है.

ऑस्कर फ़र्नांडिस को सड़क और हाईवे मंत्रालय सौंपा गया है, जबकि गिरिजा व्यास को शहरी विकास और ग़रीबी उन्मूलन मंत्रालय की ज़िम्मेदारी दी गई है.

शीशराम ओला को श्रम और रोज़गार मंत्री बनाया गया है.

जेसुदास सीलम को वित्तमंत्रालय में राज्यमंत्री का कार्यभार सौंपा गया है. नचियप्पन को वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय में कनिष्ठ मंत्री की ज़िम्मेदारी मिली है.

रेलवे बोर्ड में नियुक्ति को लेकर भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर रेलमंत्री पवन कुमार बंसल को इस्तीफ़ा देना पड़ा था और कानून मंत्री अश्विनि कुमार को सुप्रीम कोर्ट की प्रतिकूल टिप्पणी के बाद अपने पद से हाथ धोना पड़ा था. रेल मंत्रालय का कार्यभार अब मल्लिकार्जुन खड़गे को सौंपा गया है.

उनके इस्तीफे से खाली हुई जगहों के अलावा रविवार को अजय माकन और सीपी जोशी ने भी कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था. उन्हें पार्टी संगठन में जिम्मेदारियाँ दी गई हैं.

संबंधित समाचार