15वीं मंजिल से गिरकर भी बचे

Image caption वोल्ट अपार्मेंट, ऑकलैंड की इसी इमारत से नीचे गिरे थे स्टिलवेल

न्यूज़ीलैंड में एक आदमी 15वीं मंज़िल से गिरकर भी ज़िंदा बच गया.

स्थानीय मीडिया के अनुसार ऑकलैंड में रविवार की दोपहर दो बजे ब्रिटिश नागरिक टॉम स्टिलवेल अपने पड़ोसी की बालकनी से गिर गए.

वह अपने पड़ोसी की बालकनी के ठीक नीचे मौजूद अपनी बालकनी में जाने की कोशिश कर रहे थे.

उनके दोस्तों का कहना है कि उनकी कुछ हडि्डयां टूट गई हैं लेकन वह ‘ठीक’ हैं और ‘बहुत ख़ुशकिस्मत आदमी’ हैं.

बीस वर्षीय टॉम छुट्टियां मनाने के लिए न्यूज़ीलैंड गए थे.

स्टिलवेल के दोस्तो ने स्थानीय मीडिया को बताया कि गिरने के कुछ समय बाद वो होश में आ गए थे और मुस्कुरा रहे थे. हालांकि उन्हें ये याद नहीं था कि उनके साथ क्या हुआ.

उनके दोस्त बेथ गुडविन का कहना है, "उसे आंतरिक चोटें आई हैं. उनकी कुछ हड्डियां टूट गई हैं लेकिन वो उतनी महत्वपूर्ण नहीं है."

उधर, न्यूजीलैंड पुलिस ने एक बयान जारी कर कहा है, "ऐसा लगता है कि स्टिलवेल अपने घर के बाहर रह गए थे जबकि अपार्टमेंट अंदर से बंद हो गया था. वो 15वीं मंजिल की बॉलकनी से सीधे अपनी बॉलकनी पर जाना चाहते थे."

उनके दोस्त ने बताया कि घर लौटने पर टॉम को पता चला कि उनका घर अंदर से बंद हो चुका है.

इस पर उन्होंने अपने ऊपर वाले फ़्लैट में रहने वाली महिला जेराल्डाइन बॉटिस्टा से पूछा कि क्या वह उनकी बालकनी से नीचे अपनी बालकनी में उतर सकते हैं.

जेराल्डाइन ने अखबार न्यूज़ीलैंड हैराल्ड को बताया कि टाम ‘थोड़ा झूम रहे थे’ लेकिन विनम्र थे.

जेराल्डाइन ने कहा, “मुझे उससे डर नहीं लगा. उसने पर यही प्रार्थना की- क्या आप मुझे अपनी बालकनी से नीचे कूदने देंगीं. मैं आपको परेशान नहीं करूंगा, बस आपकी बालकनी इस्तेमाल करूंगा. मुझे कभी नहीं लगा कि वह सचमुच ऐसा करेगा.''

जेराल्डाइन ने कहा कि इससे पहले कि वह उसे रोक पातीं वह बालकनी पर चढ़ गया.

टॉम सीधे नीचे गिरने के बजाय नीचे गिरते हुए साथ की एक बिल्डिंग से टकरा गए.

अस्पताल के एक प्रवक्ता ने कहा है कि गंभीर हालत में उन्हें अस्पताल लाया गया था लेकिन सोमवार तक उनकी हालात में सुधार आ गया था.

उनका इलाज करने वाले डॉक्टर टोनी स्मिथ के मुताबिक नीचे गिरते हुए अगर व्यक्ति किसी चीज़ से टकरा जाए तो उसके बचने की संभावना बढ़ जाती है.

उन्होंने कहा, “हालांकि इतनी ऊंचाई से गिरकर बचना बेहद असमान्य है.”

(बीबीसी हिन्दी एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक कीजिए. ताज़ा अपडेट्स के लिए आप हम से फ़ेसबुक और ट्विटर पर जुड़ सकते हैं.)

संबंधित समाचार