"मैं झाड़ू लगाता हूं, यह कोई ख़बर नहीं है"

केंद्र में राज्य खाद्य प्रसंस्करण मंत्री चरण दास महंत राज्यमंत्री और छत्तीसगढ़ के नए प्रदेश कांग्रेस प्रमुख ने कहा है कि "अगर सोनिया गांधी आदेश दें तो मैं छ्त्तीसगढ़ के कांग्रेस कार्यालय में झाड़ू लगाने को भी तैयार हूं. उनका आदेश मेरे लिए सर्वोच्च है."

( नेताओं की चापलूसी के 5 अनोखे मामले)

पेश है इस वक्तव्य के संदर्भ में उनसे बीबीसी के संवाददाता राजेश जोशी की बातचीत के प्रमुख अंश.

आपने जो बयान दिया है आप उस पर कायम हैं कि "अगर सोनिया कहेंगी तो मैं पोछा लगाने को भी तैयार रहुंगा?"

हां.

आपने ऐसा क्यों कहा?

हम लोगों की निष्ठा अपने कांग्रेस परिवार और कांग्रेस की नीति-रीति के प्रति है. हम लोग गांधीवादी लोग हैं. गांधी जी क्या करते थे. उस दिशा में चलना चाहते हैं.

यह कहना एक कांग्रेस के राज्य के अध्यक्ष को शोभा देता है क्या?

शोभा देता है, या नहीं देता वह आप जानें. जो हमारी भावना है कि हम हर स्थिति में कांग्रेस का साथ देना चाहते हैं.यह हमारे अपने परिवार का कार्यक्रम है. अपने परिवार के किसी कार्यक्रम को करने मे मुझे किसी तरह का संकोच नहीं है.

लेकिन इसे तो कांग्रेस के प्रति चाटुकारिता की संस्कृति के तौर पर देखा जाता है ?

आप लोग देख लीजिए. जिस भी तरीके से देखना चाहते हैं. वह आपका नज़रिया है. "जिस भावना के साथ हमने कहा है ,जिन परिस्थितियों में कहा है, पूछ लीजिए, या जिसने आपको बताया है उनसे पूछ लीजए कि किस संदर्भ में मैनें बात कही है?"

किस संदर्भ में आपने यह बात कही है? अगर आप बताएंगे तो ज्यादा बेहतर होगा.

जिस संदर्भ में कहा गया है, उसकी भी जानकारी ले लीजिए. बीबीसी को देश के लोगों की बड़ी चिंता होनी चाहिए. आपको मेरे भाषण की चिंता है?

भाषण की चिंता नहीं करनी चाहिए?

मैं कांग्रेस कमेटी में बैठा हूं, कांग्रेस परिवार में बैठा हूं. मैं अपने परिवार से क्या बात करता हूं? उसकी चिंता है आपको ?यहां छत्तीसगढ़ में तीस लोग मारे गए, उसकी चिंता नहीं है.

हम लोग उसकी भी ख़बर करते हैं.

उसकी ख़बर भी करिए.यह कोई ख़बर नहीं है.

आपके वक्तव्य का क्या संदर्भ है?

मैं झाड़ू लगाता हूं, यह कोई ख़बर नहीं है.

लेकिन आपके कहने से यह बात ख़बर बन गई है. किस परिप्रेक्ष्य में आपने यह बात कही है?

उन्होनें किसी सभा के भाषण में मौजूद होने की बात कहकर, परिप्रेक्ष्य के सवाल को अधूरा छोड़ दिया.

( बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)