पंचतत्व में विलीन हुए प्राण

  • 13 जुलाई 2013
प्राण किशन सिकंद ने 400 से ज़्यादा फिल्मों में काम किया
प्राण किशन सिकंद ने 400 से ज़्यादा फिल्मों में काम किया

भारतीय सिनेमा के जाने माने अभिनेता प्राण का शनिवार को अंतिम संस्कार हुआ. उनकी विदाई में परिवार, क़रीबी मित्र और प्रशंसक मौजूद थे. शुक्रवार शाम को मुंबई के लीलावती अस्पताल में लम्बी बीमारी के बाद उनकी मौत हो गई थी.

93 साल के प्राण को इसी साल दादा साहब फ़ालके अवार्ड से सम्मानित किया गया था.

बड़े पर्दे पर खलनायक की जीवंत भूमिका निभाने वाले प्राण के परिवार में उनकी पत्नी, बेटी पिंकी और दो बेटे अरविन्द और सुनील हैं.

"प्राण किशन सिकंद" का अंतिम संस्कार शनिवार को उनके बेटों ने किया. दादर के शिवाजी पार्क शमशानघाट पर करण जौहर, शत्रुघ्न सिन्हा, अनुपम खेर, डैनी डेंजोंगपा, गुलज़ार और रज़ा मुराद सहित बॉलिवुड की कई हस्तियोँ मौजूद रहीं.

प्राण के निधन पर नए और पुराने सभी कलाकारों ने ट्विटर पर अपना दुख प्रकट किया.

फ़िल्मों का सफ़र

दादा साहब फ़ालके अवार्ड से सम्मानित किए जाते समय प्राण

दिल्ली के एक समृद्ध परिवार में जन्मे प्राण लाहौर में पढ़े थे. वहां उन्होंने फोटोग्राफी का कोर्स किया. पटकथा लेखक वली मोहम्मद वली ने उन्हें 1940 में बनी पंजाबी फ़िल्म "यमला जट" में काम दिलवाया. इस फ़िल्म में प्राण ने नूरजहाँ के साथ बतौर हीरो काम किया था.

पाकिस्तानी लेखक सआदत हसन मंटो की मदद से उन्हें मुंबई में देव आनंद और कामिनी कौशल की फ़िल्म " ज़िद्दी" में एक किरदार मिला. इस फ़िल्म से मिली शोहरत के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा.

प्राण ने 400 से ज़्यादा फ़िल्मों में काम किया. अच्छे और बुरे दोनों ही किरदारों को वह सहजता से निभा लेते थे. उन्होंने अपने समय के सुपर-स्टार दिलीप कुमार, देव आनंद, शम्मी कपूर, धर्मेन्द्र, राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन के साथ काम करते हुए विलेन की भूमिका को यादगार बनाया.

अपनी निजी ज़िन्दगी में प्राण एक सज्जन इंसान थे. एक ऐसा इंसान जो परदे पर निभाये अपने चरित्र से कोसों दूर था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार