रूस : स्नोडेन से शरण के लिए आवेदन नहीं मिला

स्नोडेन ने रूस के मॉस्को हवाई अड्डे पर मानवधिकार कार्यकर्ताओं से भेंट की
Image caption स्नोडेन ने रूस के मॉस्को हवाई अड्डे पर मानवधिकार कार्यकर्ताओं से भेंट की

रूस के विदेश मंत्री सरगेई लावरोव ने कहा कि रूस को अमरीका के पूर्व ख़ुफ़िया अधिकारी एडवर्ड स्नोडेन की तरफ़ से शरण मांगने के लिए कोई आवेदन पत्र नहीं मिला है. शुक्रवार को स्नोडेन ने कहा था कि वह रूस में शरण के लिए आवेदन देना चाहते हैं.

सरगेई लावरोव ने कहा कि उनकी सरकार स्नोडेन के संपर्क में नहीं है. अमरीका ने रूस से कहा है कि वह स्नोडेन को उसे सौप दे.

अमरीका ने रूस पर फ़रार खुफ़िया विश्लेषक एडवर्ड स्नोडन को प्रोपेगंडा के लिए मंच देने का आरोप लगाया है.

एडवर्ड स्नोडेन मॉस्को हवाईअड्डे पर मानवाधिकार संगठनों से मिले. इसके बाद अमरीका के रष्ट्रपति बराक ओबामा ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फ़ोन पर बात की. हॉंगकॉंग से भागकर मॉस्को हवाईअड्डे पहुँचने के बाद स्नोडेन पहली बार सार्वजिनक रूप से सामने आए थे.

एडवर्ड स्नोडेन पर अमरीका की ख़ुफ़िया सूचनाएँ लीक करने का आरोप है.

उन्होंने कहा कि वह रूस से होते हुए लातिन अमरीका जाना चाह रहे हैं इसलिए वह रूस से शरण माँग रहे हैं.

स्नोडेन का जीवन परिचय

एडवर्ड स्नोडेन शेरेमेत्येवो हवाईअड्डे पर फँसे हुए हैं. ख़बर है कि 23 जून को हांगकांग से से आने के बाद वह हवाईअड्डे के एक होटल में रह रहे हैं.

शरण की गुहार

Image caption स्नोडेन को लेकर रूस और अमरीका में तनातनी है

अमरीका और रूस के राष्ट्रपतियों की बीच हुई बातचीत का विस्तृत ब्यौरा फिलहाल नहीं दिया गया है. लेकिन व्हाइट हाउस ने स्नोडेन के बारे में बातचीत होने की पुष्टि की है.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्नी ने फ़ोन कॉल के बाद कहा कि एडवर्ड स्नोडेन को प्रोपेगंडा का मंच देकर रूस की सरकार निष्पक्ष रहने के अपने निर्णय से उलट रही है.

जे कार्नी ने कहा कि रूस ने भरोसा दिया था कि वह स्नोडेन को अमरीका की छवि और ख़राब नहीं करने देगा लेकिन अब वह इस पर भी खरा नहीं उतर रहा.

एडवर्ड स्नोडेन ने 21 देशों से राजनीतिक शरण की अपील की थी. अधिकतर देशों ने स्नोडेन की अपील ठुकरा दी थी. बोलिविया, निकारगुआ और वेनेज़ुएला ने संकेत दिया था कि वह उन्हें शरण दे सकते हैं.

क़ानून से बाहर

शुक्रवार को एडवर्ड स्नोडेन ने एक विज्ञप्ति में कहा था कि वह राजनीतिक शरण के सभी प्राप्त प्रस्तावों को औपचारिक तौर पर स्वीकार करते हैं. उन्होंने कहा कि भविष्य में भी अगर कोई उन्हें शरण देने का प्रस्ताव देता है, तो वह भी उन्हें स्वीकार्य होगा.

साथ ही उन्होंने कहा कि अमरीका और कुछ यूरोपीय देशों ने 'क़ानून से बाहर काम करने की इच्छा' का प्रदर्शन किया है.

एडवर्ड स्नोडेन ने अमरीका के हज़ारों ख़ुफ़िया दस्तावेज़ सार्वजनिक कर दिए हैं. इनसे पता चला है कि अमरीका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी नियोजित ढंग से बड़े पैमाने पर फ़ोन और वेब की सामग्री की निगरानी कर रही है.

सार्वजनिक हुए दस्तावेजों से यह संकेत भी मिलता है कि ब्रिटेन और फ़्रांस की ख़ुफ़िया एजेंसियां भी आंकड़े इकठ्ठा करने का ऐसा ही कार्यक्रम चला रही हैं और अमरीका गुप्त रूप से यूरोपीय संघ की आधिकारिक बातचीत सुनता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार