तुर्की के जहाज़ पर क़ब्ज़ा, चालक दल में 24 भारतीय

  • 17 जुलाई 2013
Image caption अधिकारियों का कहना है कि ये काम सोमाली लुटेरों का नहीं, बल्कि स्थानीय समुद्री लुटेरों का हो सकता है

समुद्री लुटेरों ने पश्चिम अफ्रीकी देश गैबॉन के पोर्ट जेंटिल बंदरगाह के पास तुर्की के एक मालवाहक जहाज़ पर क़ब्ज़ा कर लिया गया है. इसके चालक दल में 24 भारतीय शामिल हैं.

'एमटी कॉटन' नाम के इस जहाज़ के कप्तान शिशिर वाही के परिवार ने बीबीसी को बताया कि रविवार को क़ब्ज़ा होने के बाद से जहाज़ के मालिकों का उसके साथ कोई संपर्क नहीं हो सका है.

अभी ये स्पष्ट नहीं है कि समुद्री डाकुओं की ओर से फिरौती की कोई मांग की गई है या नहीं.

जिस क्षेत्र में जहाज़ पर क़ब्ज़ा किया गया है, उसे आम पर तौर ऐसी घटनाओं के लिए नहीं जाना जाता है.

अधिकारियों के मुताबिक यह काम सोमाली समुद्री डाकुओं का नहीं, बल्कि स्थानीय डाकुओं का हो सकता है. पिछले कई सालों से सोमालिया के तट के पास जहाज़ों का अपहरण होता रहा है.

आख़िरी संपर्क

कप्तान वाही की बेटी ऋचा ने बीबीसी को बताया कि पोत के मालिकों के मुताबिक़ समुद्री डाकुओं ने संभवतः पोर्ट जेंटिल के बाहरी इलाक़े से लंगर डालकर पोत का अपहरण किया.

कप्तान वाही समेत चालक दल के पाँच सदस्य कोलकाता से हैं.

कप्तान वाही जहाज़ के चालक दल में शामिल होने के लिए पाँच जुलाई को घर से गए थे.

उनकी बेटी ने बताया, ''12 जुलाई को उन्होंने पोत के कप्तान का पदभार संभाला था. उसी रात उन्होंने हमें ईमेल किया था और कहा था कि वहाँ कुछ तकनीकी ख़राबी है जिसकी वजह से वे आगे संपर्क में नहीं रह पाएंगे. उसके बाद से अभी तक हमारा उनसे कोई संपर्क नहीं हो सका है.''

चालक दल को भर्ती करने वाली कंपनी के अधिकारी वेवब दलवी ने बीबीसी से कहा, ''चालक दल से संपर्क करने के लिए हम लगातार कोशिश कर रहे हैं."

उन्होंने कहा, "तुर्की में पोत मालिकों ने हमें बताया है कि उन्होंने गैबॉन की सरकार से संपर्क किया है और चालक दल को छुड़ाने की भरसक प्रयास कर हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार