कश्मीर में हड़ताल, प्रशासन ने लगाया कर्फ़्यू

  • 19 जुलाई 2013
कश्मीर
Image caption प्रशासन ने कर्फ़्यू लगा दिया है. आम जीवन थम सा गया.

भारत प्रशासित कश्मीर के मुख्य शहरों में गुरूवार को फौज की फायरिंग में हुई मौतों के बाद घाटी में हड़ताल है जबकि प्रशासन ने वहां कर्फ़्य लागू कर दिया है.

चार लोगों की मौतें जम्मू के रामबन इलाक़े के पास हुई थीं और उसके बाद जम्मू के साथ-साथ कश्मीर घाटी में भी तनाव पैदा हो गया.

गुरूवार की घटना में कुल 45 लोग ज़ख़्मी हुए थे जिनमें से कुछ ही हालत अभी भी नाज़ुक है.

गोला-बारूद

सीमा सुरक्षा बल के इंस्पेक्टर जनरल ने जम्मू में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि प्रदर्शनकारियों ने बीएसएफ के उसी कैंप पर धावा बोलने की कोशिश की थी जिसमें हथियार और गोला बारूद रखा था.

उन्होंने बताया कि भीड़ ने कैंप को दो बार घेरने की कोशिश की और ऐसा लग रहा था कि वो हिंसा फैलाना चाह रहे हैं.

लेकिन स्थानीय नागिरक ग़ुलाम मोहयुद्दीन का कहना था कि बीएसएफ़ के कुछ जवानों ने बुधवार की रात एक मस्जि़द और उससे लगे मदरसे के एक शिक्षक को परेशान किया और क़ुरान की बेइज्ज़ती की.

उसके विरोध में लोग गुरूवार सुबह जलूस लेकर कैंप की तरफ़ शिकायत के लिए जा रहे थे.

ग़ुलाम मोहयुद्दीन का कहना था कि लोग जैसे ही कैंप के मुख्य दरवाज़े के पास पहुंचे तो जवानों ने बंदूक़े तान लीं. लोग नारे लगा रहे थे, कि गोलियां चलने लगीं.

जीवन अस्त-व्यस्त

जुमे को कर्फ़्यू की वजह से जम्मू और श्रीनगर के बीच की सड़क पर यातायात में बाधा आ रही है.

व्यापार बंद है और कश्मीर विश्वविद्यालय ने परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं.

अलगाववादी नेताओं को प्रशासन ने घर में ही नज़रबंद कर दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार