अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाएगी सरकारः प्रधानमंत्री

  • 19 जुलाई 2013
भारत
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आश्वासन दिया है कि सरकार अर्थव्यवस्था में सुधार के हर संभव प्रयास कर रही है.

औद्योगिक संस्था, एसोचैम की वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने स्वीकार किया कि भारतीय अर्थव्यवस्था कठिन दौर से गुज़र रही है. साथ ही, उन्होंने उद्योग जगत को आश्वासन दिया कि अर्थव्यवस्था में सुधार लाने के लिए सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी.

मनमोहन सिहं ने रुपए में आ रही गिरावट के लिए चालू खाते के बढ़ते घाटे और वैश्विक कारणों को जिम्मेदार ठहराया. उन्हें आशा है कि विदेशी विनिमय बाजार में सटोरियों का दबाव कम होते ही भारतीय रिजर्व बैंक रुपए में गिरावट को काबू करने के लिए हाल में उठाए गए सारे कदमों को वापस ले लेगा.

अर्थव्यवस्था पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हालांकि हमारी घरेलू अर्थव्यवस्था स्थिर और मजबूत है, मौजूदा वित्तीय वर्ष में आर्थिक विकास की दर 6.5 फीसदी से कम रहने की संभावना है.

एसोचैम की वार्षिक आम बैठक में बोलते हुए मनमोहन सिंह ने कहा, “अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. मैं आप सबसे विनती करता हूं कि आप किसी भी तरह के नकारात्मक दबाव में ना आएं.”

सरकार से आस

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, “मैं पहले ही यह बता देना चाहता हूं कि दूसरे देशों की ही तरह हमारा देश भी कठिन दौर से गुजर रहा है. उद्योगजगत को सरकार से आस है कि वह अर्थव्यवस्था को मंदी से निकाल कर इसे उच्च आर्थिक विकास की राह पर ले जाएगी. यह अपेक्षा उचित है और सरकार की भी यह प्राथमिक जिम्मेदारी है.”

प्रधानमंत्री ने उद्योगजगत को भरोसा दिलाया कि सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए पूरी चौकसी से काम करेगी.

उन्होंने आगे कहा, “जब सब कुछ सही सही चल रहा हो तो सरकार को चाहिए कि वह कम से कम हस्तक्षेप करे. हां, जब हालात बिगड़ रहे हों तो, जैसा कि अभी लग रहा है, सरकार की खास जिम्मेदारी बनती है कि वह विशेष सक्रियता दिखाए.”

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार