मोदी पर अमर्त्य सेन और भगवती में ठनी!

नरेंद्र मोदी
Image caption नरेंद्र मोदी आम चुनावों के लिए बीजेपी की प्रचार समिति के मुखिया हैं

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन की टिप्पणी पर छिड़े विवाद के बीच एक अन्य जाने माने अर्थशास्त्री जगदीश भगवती ने कहा है कि न उन्हें मोदी से कोई खास लगाव है और न राहुल गांधी से.

लेकिन उन्होंने मोदी की सरकार के कामकाज की तारीफ की है.

सेन की इस टिप्पणी पर विवाद हो रहा है कि वो मोदी को भारत के प्रधानमंत्री के रूप में नहीं देखना चाहेंगे. इस बयान के बाद बीजेपी सांसद चंदन मित्रा ने उन्हें दिए गए भारत रत्न को वापस लिए जाने की मांग तक कर डाली है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जगदीश भगवती ने कहा है, “मैं मोदी को वोट नहीं दूंगा. मुझे उनसे कोई खास लगाव नहीं है. लेकिन मुझे राहुल गांधी से भी कोई लगाव नहीं है.”

उन्होंने कहा, “मैं चाहता हूं कि सभी प्रगतिशील लोग, चाहे वो जिस भी पार्टी के हो, वो हमारे प्रस्तावित विचारों को देखें और बताएं कि उनका क्या रुख है और वो इन विचारों के साथ क्या करने जा रहे हैं.”

'अमरीका जैसी बहस हो'

जब उनसे पूछा गया कि क्या वो प्रधानमंत्री के रूप में मोदी को पसंद करेंगे तो उन्होंने कहा कि वो किसी शख्सियत की बात नहीं करेंगे बल्कि ये देखना चाहते हैं कि उनका क्या मंच है और उनके क्या कार्यक्रम हैं.

Image caption अमर्त्य सेन के बयान के बाद शुरू हुआ विवाद

जगदीश भगवती ने कहा, “मैं चाहता हूं कि उनके बीच अमरीका की तरह बहस हो.”

उन्होंने कहा कि वो सामाजिक सूचकांकों और सामाजिक प्रगति के पक्ष में हैं और उन्हें गुजरात मॉडल पसंद है जिसमें सामाजिक सूचकांकों की दृष्टि से वृद्धि हुई है.

भगवती ने मोदी की सरकार के बारे में उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि उनका क्या मॉडल है. गुजरात में जो हुआ उससे तेज आर्थिक वृद्धि हुई है.”

मोदी की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा, “उन्होंने तेजी के साथ लाइसेंस दिलवाए और बिजली की आपूर्ति बढ़वाई जो एक बड़ी समस्या है. इसी तरह विकास होता है और मैं ये भी पाता हूं कि सामाजिक प्रगति भी हुई.”

अमर्त्य सेन के ग्रोथ मॉडल के आलोचक भगवती ने कहा कि सेन ने 1991 के सुधारों का समर्थन ना करके असल में भारत के गरीबों को ठेस पहुंचाई है जबकि वो खाद्य सुरक्षा बिल के हक में हैं जिससे मुद्रास्फीति बढ़ेगी.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार