गोरखालैंड: आर-पार की जंग का एलान

  • 3 अगस्त 2013
gorkhaland_band_siliguri
Image caption तेलंगाना निर्माण के ऐलान के बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने तीन दिन बंद का आह्वान किया था

भारत के दक्षिण में जैसे ही एक नए राज्य तेलंगाना के निर्माण का एलान किया गया वैसे ही राज्य के पूर्वोत्तर में कई पुरानी मांगों ने फिर ज़ोर पकड़ लिया है.

तेलंगाना बनाने के फ़ैसले का सबसे ज़्यादा असर पूर्वी भारत और पूर्वोत्तर भारत में नज़र आ रहा है.

इनमें सबसे ज़्यादा तेज है गोरखालैंड का आंदोलन जिसमें इसी हफ़्ते की शुरुआत में तीन दिन का बंद रखा गया था.

इसके बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने शनिवार से दार्जीलिंग के पर्वतीय क्षेत्रों में अनिश्चितकालीन बंद का एलान किया है.

दार्जीलिंग आने वाले पर्यटकों और हॉस्टलों में रहने वाले छात्रों को दार्जीलिंग छोड़ने के लिए कह दिया गया है.

हिंसक आंदोलन

लेकिन गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने दार्जीलिंग के चाय बागानों और सिंकोना उत्पादन क्षेत्र को इस बंद से अलग रखा है.

दरअसल दार्जीलिंग की आर्थव्यवस्था का आधार चाय, सिंकोना का उत्पादन और पर्यटन है.

मोर्चा ने अपना एक प्रतिनिधिमंडल बातचीत करने के लिए दिल्ली भेजा है और एलान कर दिया है कि अब यह लड़ाई आर-पार की होगी.

Image caption गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के बंद के दौरान सिलिगुड़ी में बस का इंतज़ार करते यात्री

उधर,शुक्रवार को दार्जीलिंग में केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की पांच कंपनियों को भेजा गया है.

इसे लेकर दार्जीलिंग में तनाव बढ़ रहा है और ऐसा लग रहा है कि इस आंदोलन पर क़ाबू पाना अब आसान नहीं होगा.

असम में ऑल बोडो स्टूडेंट्स यूनियन ने आगे बढ़ने का एलान किया है लेकिन यह मामला अभी उतना गर्म नहीं हुआ है.

इसके अलावा कार्बी आंगलोंग में बुधवार से ही हिंसा भड़क उठी है जो शुक्रवार तक जारी रही.

एक स्थानीय पत्रकार सुशांतो रॉय के अनुसार कार्बी आंगलोंग ज़िला मुख्यालय में हिंसा के बाद शुक्रवार को पुलिस को गोली चलानी पड़ी.

पिछले तीन दिन में हिंसक घटनाओं में वहां एक आंदोलनकारी की मौत हो गई और 20 से ज़्यादा घायल हैं.

स्थिति कितनी गंभीर है इसका अंदाज़ इसी से लगाया जा सकता है कि कार्बी आंगलोंग ज़िला प्रशासन ने सेना की मदद मांगी है क्योंकि पुलिस स्थिति को काबू करने में कामयाब नहीं हो पा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार