सैनिकों पर बयान: बिहार के मंत्री ने मांगी माफ़ी

भारतीय सेना प्रमुख

बिहार के ग्रामीण कार्य विभाग के मंत्री भीम सिंह ने सैनिकों पर दिए अपने 'विवादित' बयान पर खेद व्यक्त किया है.

दरअसल भीम सिंह ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा था कि सैनिक शहीद होने लिए ही सेना में भर्ती होते हैं.

भीम सिंह ने कहा कि वे अपने बयान के लिए क्षमा माँगते हैं, उनका बयान गलत था. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने उनके बयान का संज्ञान लिया और उनसे माफ़ी माँगने के लिए कहा.

जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में हुए हमले में मारे गए सैनिकों के शव बुधवार को पटना पहुँचे थे. मारे गए पाँच सैनिकों में से चार बिहार के थे.

सैनिकों के शवों के पटना पहुँचने पर किसी भी मंत्री के मौजूद न रहने पर एक टीवी चैनल के पत्रकार ने मंत्री भीम सिंह से सवाल किया था जिसके जबाव में उन्होंने कहा था कि सैनिक तो शहीद होने के लिए ही सेना में भर्ती होते हैं.

भीम सिंह ने पत्रकार से ही पूछ लिया था कि क्या तुम्हारे माता या पिता अंतिम संस्कार में शामिल हुए हैं.

सैनिकों की मौत: पाकिस्तान का आरोपों से इनकार

ग़लत बयान

गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, "सैनिकों का सम्मान करना हमारा कर्तव्य है. मैं विनम्रता से कहना चाहूँगा कि ऐसे संवदेनशील मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों को एकजुटता दिखानी चाहिए."

मंत्री के बयान पर दुख जाहिर करते हुए उन्होंने कहा, "ऐसी परिस्थिति में हमारे सहयोगी का जो बयान दिया है वह बहुत ग़लत है. इस बयान का मुझे बेहद दुख और अफ़सोस है. मैं इस पर खेद प्रकट कर रहा हूँ. वे हमारे शहीद हैं, हमारा गौरव हैं. हम उनका अहसान नहीं भूल सकते हैं. उन्होंने अपने प्रयाण न्यौछावर करके देश की सेवा की है."

मुआवज़ा

Image caption भीम सिंह ने कहा था शहीद होना ही सैनिकों की ड्यूटी है

इससे पहले बुधवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सैनिकों का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार और सैनिकों के परिवारों को राज्य सरकार की ओर से दस-दस लाख रुपये दिए जाने की घोषणा की थी.

एक सैनिक की विधवा ने मुआवज़े का चेक लेने से भी इनकार कर दिया था.

गुरुवार को ही रक्षामंत्री एके एंटनी ने लोकसभा में घटना की निंदा करते हुए कहा कि पाकिस्तानी सेना के स्पेशल दस्ते इस हमले में शामिल थे.

एंटनी ने कहा कि भारतीय सेना ऐसी घटनाओं से निपटने और नियंत्रण रेखा की रक्षा के लिए पूरी तरह से तैयार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार