साधू यादव और नरेंद्र मोदी की मुलाक़ात के मायने

  • 16 अगस्त 2013
साधू यादव
Image caption साधू यादव का कहना है कि मुलाक़ात के राजनीतिक मायने नहीं निकालने चाहिए

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के भाई और बिहार कांग्रेस के नेता साधू यादव ने शुक्रवार को अहमदाबाद में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की है.

इस मुलाक़ात को लेकर राजनीतिक कयास लगाए जाने लगे हैं, लेकिन साधू यादव का कहना है कि ये शिष्टाचार में हुई मुलाक़ात थी.

साधू यादव का कहना है कि वे एक पारिवारिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने अहमदाबाद आए हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के साथ बातचीत में अनिरुद्ध प्रसाद उर्फ़ साधू यादव ने कहा, "नरेंद्र मोदी के साथ हमारी मुलाक़ात 40-45 मिनट चली. उन्होंने बिहार की राजनीतिक स्थिति और नेताओं के बारे में पूछा."

राजनीतिक मायने

Image caption नरेंद्र मोदी ने लालू यादव का भी हालचाल पूछा

साधू यादव के साथ बिहार कांग्रेस के एक अन्य नेता दसई चौधरी भी मौजूद थे. एक सवाल के जवाब में साधू यादव ने बताया कि नरेंद्र मोदी ने उनसे लालू यादव के बारे में भी पूछा.

उन्होंने स्पष्ट किया कि नरेंद्र मोदी के साथ उनकी मुलाक़ात के कोई राजनीतिक मायने नहीं निकाले जाने चाहिए.

साधू यादव ने 2009 के लोकसभा चुनाव के समय राष्ट्रीय जनता दल से नाता तोड़ लिया था और कांग्रेस में शामिल हो गए थे.

माना जाता है कि गोपालगंज सीट को लेकर उनके लालू प्रसाद यादव से मतभेद हो गए थे. क्योंकि राष्ट्रीय जनता दल गठबंधन के तहत वो सीट लोक जनशक्ति पार्टी को दे रही थी.

बाद में साधू यादव बेतिया से चुनाव लड़े लेकिन हार गए. समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि मुख्यमंत्री कार्यालय ने साधू यादव से संपर्क किया था और फिर उन्हें चाय के लिए आमंत्रित किया गया था.

हाल ही में बिहार में भारतीय जनता पार्टी और जनता दल (यू) का गठबंधन टूटा है. इस समय नीतीश कुमार की अगुआई वाली जनता दल (यू) की सरकार को कांग्रेस अपना समर्थन दे रही है.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार